सिटी न्यूज़

प्राइमरी पाठशाला से अमेरिका तक सफर तय करने वाली होनहार छात्रा की सड़क दुर्घटना में मौत

UP City News | Aug 12, 2020 06:15 PM IST

नोएडा. अमेरिका के बॉब्सन कालेज में एचसीएल (HCL शिव नाडर ग्रुप) के खर्च पर पढ़ने वाली गौतमबुद्धनगर के दादरी की होनहार छात्रा सुदीक्षा भाटी की बुलंदशहर में एक सड़क हादसे के दौरान मौत हो गई है. इंटरमीडिएट में बुलंदशहर जनपद को टॉप करने वाली छात्रा सुदीक्षा अपने चाचा के साथ मामा के घर औरांगबाद जा रही थी, तभी बुलंदशहर औरांगबाद रोड पर उनकी बाइक अचानक बुलेट से जा टकराई और होनहार छात्रा की मौके पर ही मौत हो गई.

सुदीक्षा भाटी अमेरिका के बॉब्सन कालेज में स्टडी कर रही थी और छुट्टियों में घर आई हुई थी. 20 अगस्त को सुदीक्षा भाटी को अमेरिका वापस लौटना था. इससे पहले ही सुदीक्षा भाटी अमेरिका लौटती आज सड़क हादसे में होनहार छात्रा की दर्दनाक मौत हो गई. आपको बता दे की सुदीक्षा को एचसीएल (HCL शिव नाडर ग्रुप) की तरफ से अमेरिका पढ़ने के लिए 3.80 करोड़ रुपये की स्कॉलरशिप दी गई थी. वहीं, सुदीक्षा भाटी के परिजनों का आरोप है कि जब बाइक से वह औरांगबाद जा रहे थे, तब उनकी बाइक का बुलेट सवार दो युवक़ों ने पीछा किया. कभी युवक अपनी बुलेट को आगे निकालते तो कभी पीछे स्टंट करने लगते थे. अचानक बुलेट सवार युवक़ों ने अपनी बाइक का ब्रेक लगा दिया. जिससे उनकी बाइक बुलेट से टकरा गई और डिसबैलेंस होकर सड़क पर जा गिरी. इस हादसे में होनहार छात्रा की मौके पर ही मौत हो गई. उधर सूचना के बाद मौके पर पहुंची पुलिस ने शव को पोस्टमार्टम के लिए भेज आगे की कार्रवाई शुरू कर दी है. वहीं होनहार छात्रा की मौत से परिजनों में कोहराम मचा हुआ है.

प्राइमरी से अमेरिका तक का सफर

नोएडा, पुलिस, होनहार छात्र, मौत, सड़क दुर्घटना,
File Photo

गौतमबुद्ध नगर के दादरी तहसील की रहने वाली सुदीक्षा बेहद गरीब परिवार से ताल्लुक रखती हैं. सुदीक्षा के पिता ढाबा चलाते हैं। सुदीक्षा ने बेसिक शिक्षा विभाग के परिषदीय स्कूल से कक्षा पांच तक पढ़ाई की. प्रवेश परीक्षा के जरिये सुदीक्षा का एडमिशन एचसीएल के मालिक शिव नदार के सिकंदराबाद स्थित स्कूल में हो गया. सुदीक्षा ने कक्षा 12 में बुलंदशहर टॉप किया और इसके बाद उच्च शिक्षा के लिए उसका चयन अमेरिका के बॉब्सन कॉलेज में हुआ. पढ़ाई के लिए सुदीक्षा को एचसीएल (HCL शिव नाडर ग्रुप) की तरफ से 3.80 करोड़ रुपये की स्कॉलरशिप भी मिली थी.