सिटी न्यूज़

अजब दास्तान : कब्रिस्तान में दफन किया गया रामप्रताप, नासिर पहुंचा श्मशान घाट

UP City News | Apr 24, 2021 09:49 AM IST

मुरादाबाद. उत्तर प्रदेश के मुरादाबाद में अस्पताल प्रशासन की लापरवाही के कोरोना संक्रमित होने के बाद जान गवाने वाले दो लोगों के शव की अदला—बदली हो गई. नतीजा यह रहा कि राम प्रताप का शव कब्रिस्तान में दफ्न कर दिया गया, जबकि नासिर का शव जलाने के लिए मोक्षधाम घाट पहुंच गया. गनीमत रहा कि जलाने से पहले लोगों ने दिन अंतिम दर्शन के लिए पैकिंग खोली तो मामला खुल गया. इसके बाद जमकर हंगामा हुआ. अस्पताल प्रशासन ने सूचना पुलिस मौके पर पहुंच गई और मामला संभाल लिया. दोनों के शव उनके परिजनों को सौंप दिए गए. इसके बाद उनके मजहब के मुताबिक अंतिम संस्कार किया गया.

दरअसल, मुरादाबाद के एक निजी अस्पताल में पिछले दिनों रामप्रताप नाम के एक बुजुर्ग कोरोना संक्रमित होने के बाद भर्ती हुए थे. इसी अस्पताल में मुरादाबाद के नासिर भी एडमिट हैं. दोनों की कोरोना संक्रमण के कारण एक ही दिन मौत हो गई थी. अस्पताल प्रशासन ने लापरवाही बरतते हुए राम प्रताप का शव नासिर के परिवार के लोगों को और नासिर के शव को राम प्रताप के परिवार के लोगों को सौंप दिया. क्योंकि शव पूरी तरीके से पैक था तो किसी की को पता भी नहीं चला कि जो शव उन्हें दिए जा रहे हैं दूसरे का है. इसी उधेड़बुन में नासिर के परिवार वालों ने राम प्रताप का शव मुस्लिम रीति रिवाज के मुताबिक कब्रिस्तान में दफन कर दिया.

जबकि रामप्रताप के परिजन नासिर के शव को लेकर घाट पहुंचे और वहां अंतिम दर्शन के लिए जब पैकिंग खोली गई तो परिजनों के पैरों तले जमीन खिसक गई. इसके बाद गुस्साए परिजन कांठ रोड स्थित निजी अस्पताल पहुंचे और यहां जमकर हंगामा काटा. सूचना मिलते ही पुलिस मौके पर पहुंची और स्थिति को संभाल लिया. इसके बाद कब्रिस्तान से रामप्रताप का खुद का निकाला गया और हिंदू रीति रिवाज का कब्रिस्तान में दफना दिया गया. एसपी सिविल लाइन अनिल कुमार यादव दो व्यक्तियों का शव बदल गया था. एक व्यक्ति का कब्रिस्तान से खोदवाकर निकलवाया गया और दोनों के शव को उनके परिजनों के सुपुर्द कर दिया गया है.