सिटी न्यूज़

ताराचंद आखिर क्यों पढ़ने लगा नमाज, किस जुर्म में काट रहा सजा, पूरी कहानी पढ़ें यहां

UP City News | Jun 29, 2021 08:51 PM IST

अपनी पत्नी के प्रेमी की हत्या में ताराचंद पिछले 42 महीने से जेल में था. इस दौरान परिवार के लोग ना मिलने आए, ना जमानत कराई. उसी बैरक में बंद उस्मान ने ताराचंद की मदद की. उस्मान से प्रभावित ताराचंद नमाज पढ़ने लगा. ताराचंद जमानत पर बाहर आया तो अपने गांव पहुंचा लेकिन बढ़ी हुई दाढ़ी, उस पर नमाज पढ़ना ग्रामीणों को नागवार गुजरा. ग्रामीणों के दवाब में ताराचंद में दाढ़ी कटवा दी है. अब पुलिस भी मामले पर नजदीकी से नजर रखे हुए है. वहीं, ताराचंद का कहना है कि वो नमाज पढ़ता है, लेकिन ये नहीं है कि उसने धर्म बदल लिया है.

कोरोना महामारी के चलते मेरठ के मऊखास गांव का ताराचंद जब पैरोल पर जेल से बाहर आया तो उसके चेहरे पर दाढ़ी और सिर पर गोल टोपी थी. ताराचंद गांव में अपने घर में अकेले रहता था और नमाज पढ़ने गांव की मस्जिद में जाता था. ये बात गांव के ग्रामीणों और बीजेपी नेता दुष्यन्त तोमर को पता चली तो तोमर सैकड़ों गांववाले लेकर ताराचंद के घर पहुंच गए. जिसके बाद ग्रामीणों के दबाव में ताराचंद ने दाढ़ी कटवा दी.