सिटी न्यूज़

बागपत के कोविड अस्पताल में दिखीं दिल दहला देने वाली तस्वीरें, फर्श पर पड़ी थी अर्धनग्न महिला

UP City News | Apr 30, 2021 12:07 AM IST

बागपत. सरकार चाहे कितने भी दावे कर ले कि कोविड—19 मरीजों के लिए व्यवस्था मुकम्मल है लेकिन इसकी हकीकत बागपत के कोविड अस्पताल से वायरल हो रही वीडियो से आप खुद ही पता कर सकते हैं. आरोप है कि ऑक्सीजन न मिलने के के कारण बागपत के कोविड अस्पताल में एक महिला और पुुरुष मरीज की तड़प—तड़पकर मौत हो गई. इस मामले में संवेदनहीनता की पराकाष्ठा पार हो गई. मरीज ऑक्सीजन न मिलने से इस कदर तड़प रहे थे कि बेड से नीचे गिर गए और उनकी मौत हो गई. दोनों के शव अर्धनग्न अवस्था में पड़े थे. वीडियो वायरल होने के बाद सीएमओ ने खुद माना है कि मरीज बेड से नीचे पड़े थे और उन्होंने जांच के बाद कार्रवाई की भी बात कही है.

दरअसल, कोरोना संक्रमित के लिए एक खेड़का और सरूरपुर में 75—75 बेड का कोविड-19 अस्पताल स्वास्थ्य विभाग ने बनाया है. बताया जा रहा है कि इन दोनों अस्पतालों में कोरोना के गंभीर मरीज लाए जा रहे हैं और उनका इलाज किया जा रहा है. हालांकि बुधवार को सोशल मीडिया पर एक वीडियो वायरल हुआ, जिसमें स्वास्थ्य विभाग के सारे दावे की हवा निकलती नजर आ रही है. इस वीडियो में एक महिला और पुरुष का शव अस्पताल में बेड के नीचे अर्धनग्न अवस्था में मिला. तीमारदार और मरीजों का आरोप ​कि दोनों की मौत आक्सीजन की कमी के कारण हुई है. दोनों तड़पते रहे लेकिन आक्सीजन नहीं मिली.

मीडिया रिपोर्ट की मानें तो मरीजों का तो ये भी आरोप है कि इलाज के नाम पर सिर्फ खानापूरी हो रही है. डॉक्टर खुद मरीजों के पास नहीं जाते हैं तो इलाज कैसे संभव हो सकेगा. वहीं ऑक्सीजन की कमी होने के कारण दोनों मरीजों की इस तरह से हुई मौत के बाद हड़कंप मचा हुआ है. मामले में डीएम और सीएमओ डॉ. आरके टंडन ने गंभीरता से जांच कराने की बात कही है. जांच में प्रभारी चिकित्सक सहित कई स्वास्थ्य कर्मियों पर लापरवाही की बात सामने आ सकती है. बताया जा रहा है कि अस्पताल में ये हालात तब हैं कि जब अक्सर आला अधिकारी इन अस्पतालों का निरीक्षण करने जाते रहे हैं. वहीं सीएमओ डॉ. आरके टंडन का कहना है कि दोनों मरीजों की मौत और आक्सीजन की कमी से नहीं हुई है. हालांकि उन्होंने मरीजों के बेड से गिरने की बात स्वीकारी है.

कोविड अस्पताल की अव्यवस्था का वीडियो बनाकर वायरल करने वाले शशांक त्योगी खुद कोरोना पॉजिटिव हैं और उनका उसी अस्पताल में इलाज चल रहा है. उन्होंने बताया कि डॉक्टर खुद मरीज के पास आने से डर रहे हैं. ऐसे में मरीजों का कैसे इलाज हो सकेगा. शंशाक द्वारा बनाए गए इस वीडियो के वायरल होने से लोगों की रात की नींद उड़ी हुई है. उन्होंने अस्पताल की अव्‍यवस्‍था पूरी वीडियाे बनाई है और पोल खोल दी है.