सिटी न्यूज़

बांदा में भगवान से भी मांगा जा रहा है आधार कार्ड, जानें क्या है इसकी वजह

UP City News | Jun 07, 2021 09:40 PM IST

उत्तर प्रदेश के बांदा जिले में खुरहंड स्थित राम जानकी विराजमान मंदिर प्रशासन के सामने एक अजीबोगरीब मुश्किल आन खड़ी है. दरअसल, मंदिर की भूमि पर उपजे गेहूं को सरकारी खरीद केंद्र पर नहीं खरीदा जा रहा है. इसकी वजह आधार कार्ड बताई जा रही है. जमीन मंदिर परिसर की है और इसके मालिक भगवान हैं तो अब ऐसे में उनका आधार कार्ड कैसे बनेगा. दूसरी ओर गेहूं बिक्री के लिए ऑनलाइन पंजीयन के तौर पर आधार कार्ड होना जरूरी है. इस वजह से मामला फंसा हुआ है आइए बताते हैं पूरा मामला.

जानकारी के मुताबिक मंदिर के नाम करीब 7 हेक्टेयर जमीन है. करीब 5 बीघा जमीन पर गेहूं चना मटर और धान की खेती की जाती है. इस बार करीब 100 क्विंटल गेहूं पैदा हुआ है. फसल की बिक्री के लिए ऑनलाइन पंजीयन की प्रक्रिया मंदिर प्रशासन की ओर से की गई लेकिन पंजीयन एसडीएम कार्यालय ने कैंसिल कर दिया है. जब प्रशासन ने लेखपाल से जानकारी ली तो उन्होंने एसडीएम से बात करने को कहा मंदिर के महंत राम कुमार दास ने बताया कि उन्होंने एसडीएम से फोन पर बात की तो उन्होंने आधार कार्ड पंजीयन नहीं है. आधार कार्ड होने पर ही पंजीजयन करने की बात कही. महेंद्र के मुताबिक जमीन राम जानकी विराजमान मंदिर के नाम है. असली मालिक भगवान हैं. भगवान का आधार कार्ड कहां से लाएं.