सिटी न्यूज़

UP City News | May 14, 2021 10:42 PM IST

अब रायबरेली में दिखे मुर्दों के टीले, प्रशासन कह रहा है- ये तस्वीरें झूठी हैं

बीते लगभग 15 दिनों क अंदर उत्तर प्रदेश में नदियों के किनारे तैरते और दफनाए हुए शव मिलने का सिलसिला जारी है पहले बक्सर जिले के बॉर्डर पर फिर कानपुर और उन्नाव के बाद अब रायबरेली में इंसानियत को शर्मसार करने वाली ये तस्वीरें सामने आई हैं.

बीते लगभग 15 दिनों क अंदर उत्तर प्रदेश में नदियों के किनारे तैरते और दफनाए हुए शव मिलने का सिलसिला जारी है पहले बक्सर जिले के बॉर्डर पर फिर कानपुर और उन्नाव के बाद अब रायबरेली में इंसानियत को शर्मसार करने वाली ये तस्वीरें सामने आई हैं.

जिससे जिला प्रशासन में हड़कंप मच गया और एडीएम प्रशासन ने इन तस्वीरों को भ्रामक व अफवाह बताते हुए तत्काल एक लेटर जारी कर दिया गया.

ad ad

जिसमें यह लिखा गया है कि संज्ञान में आया है की गेगासो के गंगा नदी में कुछ लाशों के देखने की भ्रामक खबरें फैलाई जा रही है. इस संबंध में उपजिलाधिकारी लालगंज स्वयं मौके पर जाकर क्षेत्राधिकारी व थानाध्यक्ष के साथ निरीक्षण कर लिया गया है.

उक्त खबर पूर्णतया भ्रामक व फर्जी पाई गई.

बड़ी तादातों में लाशों का इस तरह से दफन होना सवाल तो उठाता ही है.

यह तस्वीरें लोगों के दिल को दहलाने वाली है. दावा है कि ये रायबरेली जिले के सरेनी थाना थाना क्षेत्र गेगासो गंगा घाट की हैं

स्थानीय लोगों से जानकारी ली गई तो लोगों ने बताया जो लाशें गंगा की रेतों में दफन है ज्यादातर लोग आर्थिक मजबूरी के कारण नहीं जला पाए क्योंकि मौतें बड़ी तादात में हो रही हैं.

अंतिम संस्कार पर अवसर वादियो ने लकड़ी पर भी कालाबाजारी करने से नहीं बाज आए और लकड़ी की कीमत 4 से 5 गुना अधिक दामों पर बिकने लगी जिसके कारण ही लोगों के पास पैसे के अभाव में लाशों को इस तरह से दफन करना पड़ा.