सिटी न्यूज़

UP City News | Jan 01, 2021 07:35 PM IST

PHOTOS: कुषाण काल की दो मूर्तियां कोरोना काल में कर रही हैं “नमस्ते”

गोरखपुर. कोविड-19 का दौर चल रहा है जिसके रोकथाम के लिए सरकार और कई संस्थाएं काम कर रही हैं. प्रचार-प्रसार के माध्यम से लोगों को जागरूक किया जा रहा है. किसी से भी हाथ ना मिलाए, किसी को छुएं नहीं, शाारीरिक दूरी का पालन करें.

Gorakhpur, Kushan period, Namaste, Corona period, distance, गोरखपुर, कुषाण काल, नमस्ते, कोरोना काल, दूरी

गोरखपुर के राजकीय बौध्द संग्रहालय में पुरातात्विक अंदाज में नमस्ते करते हुए दो मूर्तियां लगाई गई हैं.

Gorakhpur, Kushan period, Namaste, Corona period, distance, गोरखपुर, कुषाण काल, नमस्ते, कोरोना काल, दूरी

नमस्कार की मुद्रा में ये दोनों कलाकृतियां कुषाणकालीन हैं और करीब 2 हजार साल पुरानी हैं.

ad ad
Gorakhpur, Kushan period, Namaste, Corona period, distance, गोरखपुर, कुषाण काल, नमस्ते, कोरोना काल, दूरी

कोविड संक्रमण को देखते हुए दोनों मूर्तियों को संग्रहालय प्रशासन ने दर्शकों के स्वागत के लिए प्रवेश द्वार पर लगाने का फैसला किया है.

Gorakhpur, Kushan period, Namaste, Corona period, distance, गोरखपुर, कुषाण काल, नमस्ते, कोरोना काल, दूरी

इस संक्रमण सें बचने के लिए लोग हाथ मिलाने की बजाय नमस्ते कर रहे हैं. वहीं नमस्ते के प्रचार प्रसार के चलते ये मुर्तियां और भी प्रासंगिक हो गई हैं.

Gorakhpur, Kushan period, Namaste, Corona period, distance, गोरखपुर, कुषाण काल, नमस्ते, कोरोना काल, दूरी

संग्रहालय प्रशासन ने ये फैसला लिया कि इन मूर्तियों के जरिये लोगों को संदेश दिया जाए. इससे लोग प्रभावित होकर शेकहैंड ना करके नमस्कार करें और अपनी संस्कृति को जीवित रखें.

Gorakhpur, Kushan period, Namaste, Corona period, distance, गोरखपुर, कुषाण काल, नमस्ते, कोरोना काल, दूरी

संग्रहालय में नमस्कार की मुद्रा में दो कलाकृतियां हैं जिसमें एक पद्मपाणि अवलोकितेश्वर की है जिसमें हाथ जोड़कर अभिनंदन किया जा रहा है.

Gorakhpur, Kushan period, Namaste, Corona period, distance, गोरखपुर, कुषाण काल, नमस्ते, कोरोना काल, दूरी

दूसरी मूर्ति अंजली मुद्रा में युगल को दिखाया गया है दोनों अभिवादन की मुद्रा में है और ये दोनों कलाकृतियां कुषाणकालीन हैं.