सिटी न्यूज़

UP City News | May 12, 2021 06:46 PM IST

एक तरफ अस्पतालों में मरीजों की लंबी कतार, यहां बेड में लग चुकी है जंग, देखे तस्वीर

एक तरफ जहां कोरोना महामारी के चलते अस्पतालों में बेड खाली नहीं मिल रहे है और देवरिया जिला प्रशासन स्वास्थ्य उपकरणों का रोना रो रहा है. तो वहीं दूसरी तरफ लाखों रुपयों का कीमत उपकरण कबाड़ बना हुआ है और जंग खा कर बर्बाद हो रहे हैं.

एक तरफ जहां कोरोना महामारी के चलते अस्पतालों में बेड खाली नहीं मिल रहे है और देवरिया जिला प्रशासन स्वास्थ्य उपकरणों का रोना रो रहा है. तो वहीं दूसरी तरफ लाखों रुपयों का कीमत उपकरण कबाड़ बना हुआ है और जंग खा कर बर्बाद हो रहे हैं.

इतना ही नहीं इस सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र में कई उपकरण तो सड़ चुके हैं, कई जगहों पर कूड़े का अंबार लग चुका है. जो आप तस्वीरों के माध्यम से खुद अंदाजा लगा सकते है.

ad ad

मामला बैतालपुर सीएचसी के अन्तर्गत आने वाले लीलापुर प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र का है जहां पर लाखों रुपयों का दवाइयां, बेड इसके अलावा कई महंगे स्वास्थ्य उपकरण जिनकी आवश्यकता इस समय कोविड जैसे महामारी में अत्यधिक आवश्यकता है वो बर्बाद हो रहे हैं. यह अस्पताल 30 बेड का है और सही रख-रखाव न होने के वजह से अब खंडहर में तब्दील हो चुका है.

यहां तक इस अस्पताल के कई वार्ड क्षतिग्रस्त हो चुके हैं. बेड पर जंग लग चुके हैं, बेड के गद्दे सड़ चुके हैं. इतना ही नहीं दवाइयों और अन्य स्वास्थ्य उपकरणों को दीमक चट कर रहे हैं. स्थानीय लोगों ने इस अस्पताल को कोविड-19 वार्ड मे घोषित करने की मांग की है.

लोगों का कहना है कि अगर 30 बेड के इस अस्पताल को सही तरीके से मेंटेन करा दिया जाए, तो लोगो को काफी सहूलियत मिलेगी.

इस मामले पर जिले के सीएमओ डॉ.आलोक कुमार पांडे का कहना कि स्थानीय लोगों का जो कोविड-19 वार्ड बनाने का विचार है, वह सही है और जो स्वास्थ्य उपकरण सड़ गये हैं. उसकी जांच एडिशनल सीएमओ के देख-रेख में की जायेगी और जांच रिपोर्ट आने के बाद जो भी दोषी होगा उसके खिलाफ कड़ी कार्रवाई होगी.