सिटी न्यूज़

UP City News | May 04, 2021 11:42 AM IST

PHOTOS: प‍िता की आखिरी इच्‍छा यही थी, आंखों में आंसुओं के साथ बेटी ने की पूरी

औरैया जिले के अछल्दा कस्बे की एक बेटी ने वो कर दिखाया जिसका अधिकार समाज ने सिर्फ बेटों को दे रखा है. श्मशान घाट पहुँचकर पिता की चिता को मुखाग्नि देकर अंतिम संस्कार किया. और आँखों के आँसू भी रोक नही पाई.

Auraiya, Auraiya news, Auraiya news today, crime, crime news, crime news today, Auraiya crime, Auraiya crime news, Auraiya crime news today, औरैया, औरैया समाचार, औरैया समाचार आज, अपराध, अपराध समाचार, अपराध समाचार आज, औरैया अपराध, औरैया अपराध समाचार, औरैया अपराध समाचार आज,

यूपी के औरैया जिले के अछल्दा कस्बे की एक बेटी ने वो कर दिखाया, जिसका अधिकार समाज ने सिर्फ बेटों को दे रखा है. श्मशान घाट पहुँचकर पिता की चिता को मुखाग्नि देकर अंतिम संस्कार किया. और आँखों के आँसू भी रोक नही पाई.

Auraiya, Auraiya news, Auraiya news today, crime, crime news, crime news today, Auraiya crime, Auraiya crime news, Auraiya crime news today, औरैया, औरैया समाचार, औरैया समाचार आज, अपराध, अपराध समाचार, अपराध समाचार आज, औरैया अपराध, औरैया अपराध समाचार, औरैया अपराध समाचार आज,

आज लडकिया अपने जीवन मे हर वो भूमिका निभा रही हैं जो समाज ने पहले कल्पना भी नही की थी. पिता की चिता को मुखाग्नि देने वाली बेटी राखी शर्मा आज समाज का आइना बन चुकी हैं.

ad ad
Auraiya, Auraiya news, Auraiya news today, crime, crime news, crime news today, Auraiya crime, Auraiya crime news, Auraiya crime news today, औरैया, औरैया समाचार, औरैया समाचार आज, अपराध, अपराध समाचार, अपराध समाचार आज, औरैया अपराध, औरैया अपराध समाचार, औरैया अपराध समाचार आज,

पिता के लिए राखी ने बेटों से बढ़कर भूमिका निभाई. इसलिए पिता की आखिरी इच्छा थी कि उनके शरीर मे आग उनकी बेटी ही दे. बेटी राखी के ल‍िए ये मुश्किल था लेक‍िन उसने ह‍िम्‍मत नहीं हारी है नम आंखो से पिता की आखिरी इच्‍छा पूरी की.

Auraiya, Auraiya news, Auraiya news today, crime, crime news, crime news today, Auraiya crime, Auraiya crime news, Auraiya crime news today, औरैया, औरैया समाचार, औरैया समाचार आज, अपराध, अपराध समाचार, अपराध समाचार आज, औरैया अपराध, औरैया अपराध समाचार, औरैया अपराध समाचार आज,

बेटी ने न सिर्फ कांधा दिया बल्कि घाट पर पहुंचकर धार्मिक रीति रिवाज से पिता के पार्थिव शरीर को मुखाग्नि देकर बेटे का भी फर्ज निभाया.