सिटी न्यूज़

UP City News | Aug 04, 2021 03:32 PM IST

नगर निगम की लापरवाही से डूब गया बेजुबान स्ट्रीट डॉग के लिए शैल्टर होम और गौशाला भी बन गए तालाब

नगर निगम ने डॉग शैल्टर होम के लिए संस्था को दे दी तालाब की जगह करोड़ों से बनी गौशाला में नहीं है जल निकासी की व्यवस्था, गौशाला का पानी तालाब की जगह में बने डॉग शैल्टर होम में भरने से संस्था की मेहनत पर पानी गया

29 जुलाई को आयी बारिश ने 30 लाख में तैयार किए गए 71 स्ट्रीट डॉग से उनका आशियाना छीन लिया. वजह नगर निगम की लापरवाही थी, जिसका खामियाजा कान्हा उपवन गौशाला, नरायच के गौवंश भी झेल रहे हैं.

नगर निगम ने पहले तो कैस्पर होम संस्था को तालाब की जगह डॉग शैल्टर होम के लिए प्रदान कर दी. शैल्टर होम के बराबर में बनी करोड़ों की गौशाला में पानी की निकासी की व्यवस्था नहीं की. जिस कारण 29 जुलाई की बारिश में गौशाला का सारा पानी शैल्टर होम में भर गया.

ad ad

शैल्टर होम में मौजूद 71 डॉग पानी में तैरने लगे। शैल्टर होम और गौशाला दोनों तालाब बन गए. ऑपरेशन टेबिल, दवाएं, डॉग की खाने की सामग्री सब कुछ डूब गया. कोबरा पुलिस की मदद से बमुश्किल डॉग को बचाया गया.

संस्था के सदस्यों ने नुकसान की भरपाई व डॉग के रहने की व्यवस्था करने की मांग के साथ नगर निगम में आज नगरआयुक्त निखिल फुंडे का घेराव कर ज्ञापन सौंपा. जहां पांच फुट की भरत कराने में ही 50 हजार का खर्चा हुआ. बाउंड्री वॉल, सोक टैंक आदि सब मिलाकर 30 लाख का खर्चा कर संस्था ने शैल्टर होम तैयार किया.

नगर निगम की लापरवाही ने सारी मेहनत पर पानी फेर दिया. पिछले वर्ष भी गौशाला का पानी शैल्टर होम की जगह में भर गया था. तब यहां डॉग नहीं थे.