सिटी न्यूज़

वाराणसी में 750 बेड का कोविड अस्पताल होने वाला है शुरू, जानें क्‍या-क्‍या होंगी सुविधाएं

वाराणसी में 750 बेड का कोविड अस्पताल होने वाला है शुरू, जानें क्‍या-क्‍या होंगी सुविधाएं
UP City News | May 07, 2021 11:52 AM IST

वाराणसी. प्रदेश में कोरोना के कहर के आगे स्वास्थ्य विभाग के संसाधन और प्रयास बौने साबि​त हो रहे हैं. संक्रमितों के बढ़ने के साथ ही स्वास्थ्य विभाग लगातार अपने संसाधनों में बढ़ोत्तरी करने में जुटा है. मरीजों को राहत देने के लिए अब बीएचसी 750 बेड का अस्थायी अस्पताल बनाया जा रहा है. उम्मीद जताई जा रही है कि अगले सप्ताह तक यह अस्थायी अस्पताल शुरू हो जाएगा. अस्पताल शुरू होने से आम लोगों को काफी सहूलियत मिलेगी.

कोरोना संक्रमण के मामलों में वाराणसी की हालत प्रदेश में काफी चिंताजनक है. यहां प्रतिदिन बड़ी संख्या में संक्रमितों के मिलने के साथ ही बड़ी संख्या में लोगों की मौत हो रही है. हालात यह हैं कि बीएचयू मेडिकल कॉलेज में मरीजों केा भर्ती करने के लिए बेड तक की व्यवस्था नहीं है. उपचार के अभाव में अब तक कई लोगों की जान जा चुकी है. ऐसे में प्रशासन और स्वास्थ्य विभाग व्यवस्थाओं को दुरुस्त करने में लगा है, जिससे लोगों की जान को बचाया जा सके.

मरीजों का उपचार करने के लिए अब बीएचयू में डीआरडीओ के सहयोग से 750 बेड का के अस्थायी अस्पताल बनाया जा रहा है. इसके अगले सप्ताह से शुरू होने की संभावना है. आईसीयू में बेड, वेंटिलेटर लगा दिए गए हैं. हालांकि अभी अन्य तैयारियां की जा रही हैं. बृहस्पतिवार को भी स्वास्थ्य विभाग की टीम ने अस्पताल का दौरा किया।

अस्थायी कोविड अस्पताल की तैयारियों को पूरा करने के लिए डीआरडीओ भी कोई कसर नहीं छोड़ रहा है. बृहस्पतिवार शाम डीआरडीओ के अधिकारियों के साथ जिला प्रशासन की टीम ने बैठक कर तैयारियों का जायजा लिया। व्यवस्था के तहत यहां शहर के अन्य अस्पतालों में भर्ती मरीजों को शिफ्ट किया जाएगा। अस्थायी अस्पताल के बनने के बाद लोगों को काफी सहूलियत मिलेंगी. एडिशनल सीएमओ डॉ. एके मौर्य, आइसोलेशन फैसिलिटी असेसमेंट प्रभारी डॉ. अतुल सिंह की टीम ने डीआरडीओ अधिकारियों के साथ आईसीयू, ऑक्सीजन बेड आदि की जानकारी ली. इधर अस्पताल संचालन के लिए स्वास्थ्य कर्मियों की तैनाती की प्रक्रिया भी चल रही है.

राज्यमंत्री ​बोले, पूर्वांचल के लोगों को मिलेगा लाभ
अस्थायी अस्पताल में की जा रही व्यवस्थाओं और तैयारियों की जानकारी के लिए गुरुवार को कई जनप्रतिनिधि भी पहुंचे. राज्यमंत्री नीलकंठ तिवारी ने बताया कि अस्थायी अस्पताल से बनारस ही नहीं अपितु पूर्वांचल के मरीजों को राहत होगी. राज्यमंत्री रविंद्र जायसवाल ने बताया कि डीआरडीओ की मदद से बन रहे अस्पताल में लेवल 1 से 3 तक के सभी मरीजों का इलाज होगा. विधान परिषद सदस्य लक्ष्मण आचार्य ने बताया कि प्रधानमंत्री के प्रयासों का ही नतीजा है कि अस्पताल शुरू करने के लिए डीआरडीओ काफी तेजी से काम करा रहा है.