सिटी न्यूज़

जौनपुर से जुड़ रहे हैं पंजाब नेशनल बैंक प्रबंधक की हत्या और लूटकाण्ड के तार

जौनपुर से जुड़ रहे हैं पंजाब नेशनल बैंक प्रबंधक की हत्या और लूटकाण्ड के तार
UP City News | Jun 10, 2021 06:52 PM IST

वाराणसी. यूपी के वाराणसी के फूलपुर थाना क्षेत्र के पिंडराई गांव के समीप बुधवार शाम पीएनबी बैंक प्रबंधक की हत्या के बाद 41 लाख रुपये लूटने के मामले में नया खुलासा हुआ है. इस सनसनीखेज वारदात के तार जौनपुर से जुड़े हुए हैं. बृहस्पतिवार को सुबह ही पीएनबी के अधिकारियों ने जौनपुर पहुंचकर छानबीन शुरू कर दी है. फिलहाल अधिकारी इस बारे में कुछ भी बताने से कतरा रहे हैं. इस हत्या को पंचायत चुनाव से भी जोड़कर देखा जा रहा है. उधर, सुबह राजेपुर त्रिमुहानी घाट पर गोमती नदी के किनारे बैंक प्रबंधक के शव का अंतिम संस्कार किया गया. इस दौरान भारी फोर्स मौके पर मौजूद रही. गांव में भी हर तरफ पुलिस का कड़ा पहरा है.

जलालपुर थाना क्षेत्र के कुसियां गांव निवासी फूलचंद राम (45) पंजाब नेशनल बैंक की पिंडरा स्थित करखियांव शाखा के प्रबंधक थे. शाम पांच बजे वह चालक संजय और साथी सुनील के साथ स्कार्पियो में सवार होकर बैंक से बाबतपुर के लिए निकले थे. रास्ते में स्कार्पियो रुकी और यहां एक अन्य स्कार्पियो से कुछ लोग पहुंचे. प्रबंधक के इशारा करने पर दूसरी स्कार्पियो में सवार दो युवक गाड़ी में आकर बैठ गए. इसके बाद गाड़ी यू टर्न लेते हुए जौनपुर की ओर मुड़ गई. पिंडराई गांव के पास दूसरी स्कार्पियो में सवार लोगों ने ओवरटेक कर प्रबंधक की गाड़ी को रोक दिया. पहले से ही गाड़ी में सवार एक युवक ने प्रबंधक के गले में गोली मार दी. स्कार्पियो में रखे रुपये से भरा एक थैला लेकर वह फरार हो गए. इस थैले में 41 लाख रुपये थे. बैंक अधिकारियों की छानबीन के बाद यह स्पष्ट हुआ है कि 41 लाख रुपये जौनपुर के मड़ियाहूं स्थित पीएनबी शाखा से निकाला गया था.

बृहस्पतिवार को वाराणसी के मुख्य शाखा प्रबंधक प्रवीण कुमार सिंह के नेतृत्व में बैंक की टीम मड़ियाहूं पहुंची. बैंक में जाकर सीसीटीवी फुटेज खंगाले. बातचीत में प्रवीण कुमार सिंह ने मड़ियाहूं शाखा से 41 लाख रुपये निकालने की पुष्टि की. यह रुपये दिन में 11 से 12 बजे के बीच निकाले गए हैं. इस मामले में अन्य किसी तरह की जानकारी देने में उन्होंने असमर्थता जताई. अब मड़ियाहूं शाखा से दिन में ही रुपये निकालने और शाम पांच बजे हत्या होने के बाद जांच में जुटी पुलिस टीम मामले को कई एंगल से देख रही है. यह भी आशंका जताई जा रही है कि प्रबंधक पर मड़ियाहूं से ही नजर रखा जा रहा था.

बता दें कि शाखा प्रबंधक के चचेरे भाई जलालपुर ब्लाक से ब्लॉक प्रमुख पद के दावेदार भी हैं. लिहाजा घटना के पीछे पंचायत चुनाव को भी वजह माना जा रहा है.