सिटी न्यूज़

प्रयागराज: श्री कृष्ण जन्म भूमि विवाद मामले में इलाहाबाद हाई कोर्ट में हुई सुनवाई, 4 महीने में सभी अर्जियों का निपटारा करने के लिए निर्देश

प्रयागराज: श्री कृष्ण जन्म भूमि विवाद मामले में इलाहाबाद हाई कोर्ट में हुई सुनवाई, 4 महीने में सभी अर्जियों का निपटारा करने के लिए निर्देश
UP City News | May 12, 2022 10:19 PM IST

प्रयागराज. बृहस्पतिवार को इलाहाबाद हाईकोर्ट ने श्री कृष्ण जन्म भूमि विवाद को लेकर मथुरा की कोर्ट में दाखिल वादों की सुनवाई एक साथ किए जाने का आदेश दिया है. इसके साथ ही सुन्नी वक्फ बोर्ड को जन्म भूमि की जमीन से हटाने को लेकर दाखिल वादों को 4 माह में निस्तारित करने का सिविल जज सीनियर डिविजन मथुरा को निर्देश दिया गया है. यह आदेश न्यायमूर्ति ललित कुमार राय ने भगवान श्रीकृष्ण विराजमान व अन्य की याचिका पर दिया.

बताते चलें कि मथुरा में श्री कृष्ण विराजमान की जमीन को सुन्नी वक्फ बोर्ड द्वारा कब्जा कर लिया गया था कहा गया था कि हाईकोर्ट निर्देश के बाद एक साथ तय किए जाएं हाईकोर्ट ने दाखिल इस याचिका में यह भी मांग की गई थी कि निचली अदालत में सुन्नी वक्फ बोर्ड द्वारा कब्जा की गई जमीन से बेदखल करने के संबंध में दाखिल आंतरिक अर्जी का निस्तारण कराया.

श्री कृष्ण जन्म भूमि विवाद को लेकर भगवान श्री कृष्ण विराजमान व अन्य बनाम सुनी गोकुल का बास मथुरा जिला अदालत में चल रहा है. श्री कृष्ण की भक्त मनीष यादव ने भी एक बाद मथुरा सिविल कोर्ट में दाखिल कर दिया है और कहा है कि श्री कृष्ण विराजमान के नाम 13.47 एकड़ जमीन है.
इस जमीन के कुछ हिस्से को सुन्नी वक्फ बोर्ड ने एक कथित समझौता करने को कहा कहां गया जो 1967 में हुआ उसके आधार पर कब्जा कर लिया है. याची के अधिवक्ता हर्षित गुप्ता ने बताया कि सुन्नी वक्फ बोर्ड को कब्जा किए हुए हिस्से से हटाने की मांग की गई है. इसको लेकर एक अर्जी सिविल जज सीनियर डिवीजन में मथुरा के समय समक्ष दाखिल की गई है.