सिटी न्यूज़

कोविड-19 को लेकर हाईकोर्ट सख्त, कहा- ऑक्सीजन की आपूर्ति न होने से मौत आपराधिक कृत्य

कोविड-19 को लेकर हाईकोर्ट सख्त, कहा- ऑक्सीजन की आपूर्ति न होने से मौत आपराधिक कृत्य
UP City News | May 05, 2021 10:33 AM IST

प्रयागराज. उत्तर प्रदेश में ऑक्सीजन की कमी से हो रही मौतों पर हाईकोर्ट ने सख्त रुख अपनाया है. हाईकोर्ट ने जनहित याचिका पर सुनवाई करते हुए कहा कि अस्पतालों में आक्सीजन की आपूर्ति न होने से कोरोना मरीजों की मौत अपराधिक कृत्य है. कोर्ट ने आगे और तल्ख लहजे अपनाता हुए टिप्पणी करते हुए कहा यह उन अधिकारियों द्वारा नरसंहार से कम ही है जिन पर ऑक्सीजन सिलेंडरों की आपूर्ति की जिम्मेदारी है. वह इस मामले में एडिशनल एडवोकेट जनरल मनीष गोयल ने कोर्ट से 2 दिनों की मोहलत मांगी है.

कोरोना मरीजों की मौत से जुड़ी खबरों पर संज्ञान लेते हुए कोर्ट ने कहा है कि लखनऊ और मेरठ के जिलाधिकारियों को 48 घंटे के भीतर तथ्यात्मक जांच करें. कोर्ट ने उन्हें आदेश दिया है कि अगली सुनवाई पर अपनी जांच रिपोर्ट पेश करें कोर्ट में ऑनलाइन उपस्थित हों. जस्टिस सिद्धार्थ वर्मा और जस्टिस अजीत कुमार की डिवीजन बेंच ने इस मामले की सुनवाई बढ़ती कोरोना संक्रमितों की संख्या को लेकर दायर एक जनहित याचिका पर कर रहे थे.

हाईकोर्ट ने कहा कि हमें यह देखकर दुख हो रहा है कि अस्पतालों किया आक्सीजन की आपूर्ति नहीं होने से कोविड-19 होगी जान जा रही है. या एक अपराधिक कृत्य है और उन लोगों द्वारा नरसंहार से कम नहीं है, जिन्हें अस्पताल में ऑक्सीजन की सतत खरीद एवं आपूर्ति सुनिश्चित करने जिम्मेदारी सौंपी गई है. विज्ञान की उन्नति कर गया है इन दिनों हृदय प्रतिरोणप हो रहा है मस्तिष्क की सर्जरी की जा रही है. ऐसे में हम लोगों को इस तरह से कैसे मरने दे सकते हैं.