सिटी न्यूज़

इलाहाबाद विश्वविद्यालय के छात्रों ने जुर्माना वापस लेने की मांग को लेकर किया घेराव, कुुलपति ने किया इंकार

इलाहाबाद विश्वविद्यालय के छात्रों ने जुर्माना वापस लेने की मांग को लेकर किया घेराव, कुुलपति ने किया इंकार
UP City News | Nov 25, 2021 05:03 PM IST

प्रयागराज. इलाहाबाद केंद्रीय विश्वविद्यालय में गुरुवार को एक बार फिर  सैकड़ों की संख्या में छात्रों ने डीएसडब्ल्यू दफ्तर का घेराव किया। वह हास्टल में रहने वाले छात्रों पर 15 हजार रुपये जुर्माना थोपने का विरोध कर रहे थे। मामले की सूचना मिलने पर कुलपति प्रोफेसर संगीता श्रीवास्तव खुद नार्थ हाल में पहुंची। घेराव करने वाले छात्रों को शांत करने के लिए उन्होंने पांच छात्रों को वार्ता के लिए बुलाया। हालांकि वार्ता विफल रही और   उन्होंने छात्रों की जुर्माना वापस लेने की मांग मानने से इनकार कर दिया। पांचों छात्र जब वापस डीएसडब्ल्यू दफ्तर पहुंचे और सारी बात बताई तो  छात्र और आक्रोशित हो गए।

दरअसल जिस समय कोरोना फैला था. उस समय विश्वविद्यालय ने हास्टल को अधिकृत तौर पर बंद कर दिया था बावजूद हास्टलों में कई छात्र रह रहे थे. प्रशासन ने इस पर इन छात्रों को नोटिस जारी किया था कि अगर वो निर्देशों के बाद भी हास्टल नहीं छोड़ते हैं तो उसने फीस की पांच गुना धनराशि जुर्माने के तौर पर ली जाएगी. साथ ही जब तक वह जुर्माना नहीं भरेंगे तब तक उनकी डिग्री और अंकपत्र उनको नहीं दिए जाएंगे. विश्वविद्यालय प्रशासन के इस फैसले का छात्रों ने विरोध किया और विरोध स्वरूप धरना पर बैठ गए. सोमवार को भी छात्रों ने वीसी दफ्तर के पास घेराव के साथ धरना दिया था लेकिन हल नहीं निकला. अभी भी छात्र प्रदर्शन कर रहे हैं. वही प्रशासन झुकने को तैयार नहीं है.

वहीं छात्रों की मांग है कि जो विश्वविद्यालय प्रशासन ने तानाशाही रूख अपनाते हुए जुर्माना तय किया है. वह निर्णय वापस लिया जाए. साथ ही उन्हें डिग्री और अंकपत्र समय से दिए जाएं. इसके साथ ही छात्रों के लिए हॉस्टल खोले जाएं। इसके पहले प्रॉक्टर ने भी छात्रों से बातचीत की थी लेकिन कोई हल नहीं निकला था.