सिटी न्यूज़

दलित परिवार के चार सदस्यों की हत्या के बाद पीड़ित परिवार से मिलेंगी कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी

दलित परिवार के चार सदस्यों की हत्या के बाद पीड़ित परिवार से मिलेंगी कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी
UP City News | Nov 26, 2021 11:41 AM IST

प्रयागराज. प्रयागराज जिले के फाफामऊ के गोहरी गांव में एक परिवार चार सदस्यों की कुल्हाड़ी से काटकर हत्या कर दी थी. अब इसको लेकर यूपी की सियासत गर्माने लगी है. कांग्रेस की महासचिव प्रियंका गांधी आज पीड़ित परिवार से मिलने प्रयागराज आ रही हैं. उधर, पुलिस ने इस मामले में 11 लोगों के खिलाफ केस दर्ज कर लिया है. इन पर हत्या, रेप और एससी-एसटी एक्ट की धाराएं लगाई गई हैं. साथ ही लापरवाही बरतने के आरोप में फाफामऊ के इंस्पेक्टर राम केवट पटेल सहित दो अन्य पुलिसकर्मियों को निलंबित कर दिया गया है.

ये भी पढ़ें: प्रयागराज: आईजी ने माना, हां मैंने वकील को फोन पर धमकाया था, कोर्ट ने दिया ये निर्देश

बताया जा रहा है कि चारों मृतकों का आज अंतिम संस्कार किया जाएगा. फाफामऊ के मोहनगंज गोहरी गांव में घटना को लेकर मातम पसरा है. मां-बेटी से दुष्कर्म की आशंका पर दोनों की स्लाइड सुरक्षित की गई है. घटना का मूल कारण जमीन का विवाद बताया जा रहा है. दिल दहला देने वाली इस घटना की सूचना मिलने पर आईजी और डीआईजी मौके पर पहुंचे और फाफामऊ इंस्पेक्टर और एक सिपाही को निलंबित कर दिया. गांव में तनाव को देखते हुए फोर्स तैनात कर दी गई है.

ये था मामला

प्रयागराज जिले के फाफामऊ थाना के अंतर्गत के गोहरी गांव में सनसनी फैल गई. गांव में एक ही परिवार के चार लोगों की धारदार हथियार हत्या कर दी गई. इस वारदात के बाद गांव में सनसनी फैल गई. फाफामऊ थाना क्षेत्र के गोहरी गांव निवासी फूलचंद पासी (50) मजदूरी करके अपना परिवार चलाते थे. बुधवार की रात फूलचंद सहित उनकी पत्नी मीनू (47), पुत्री सपना (17) और शिव (10) साल की धारदार हथियार से हत्या कर दी गई. बताया जाता है कि फूलचंद मजदूरी करके परिवार चलाते थे. बुधवार की रात परिवार के सभी सदस्य खाना पीना के बाद घर में सोए थे. देर रात मकान के चारों तरफ बनी छोटी चहारदीवारी लांघकर पहुंचे बदमाशों ने धारदार हथियार, चाकू, कुल्हाड़ी और रॉड आदि से प्रहार कर मौत के घाट उतार दिया. घटना को अंजाम देने के बाद हत्यारे आसानी से भाग गए. घटना की जानकारी सुबह हुई तो गांव में सनसनी फैल गई. सूचना पाकर डीआईजी सहित तमाम अधिकारी और डॉग स्क्वॉयड की टीम पहुंच गई. पुलिस ने पूरे गांव में छानबीन के साथ ही लोगों से पूछताछ की, लेकिन कोई पता नहीं चला.