सिटी न्यूज़

अब नोएडा में बनेंगे ताजमहल और कुतुबमीनार, जानिए क्या है नोएडा अथॉरिटी की योजना

अब नोएडा में बनेंगे ताजमहल और कुतुबमीनार, जानिए क्या है नोएडा अथॉरिटी की योजना
UP City News | Apr 08, 2021 11:12 AM IST

नोएडा. मुहब्बत की निशानी ताजमहल और दिल्ली के कुतबमीनार की दीदार करने के लिए लोग देश ही नहीं बल्कि दुनिया के कोने—कोने से आते हैं. इन स्मारकों चाय काफी की चुस्की का आनंद नहीं ले सकते. मगर ये ख्वाहिश जल्द ही उत्तर प्रदेश के नोएडा में होने वाली है. नोएडा अथॉरिटी वेस्ट ग्रेटर नोएडा एक्सप्रेस-वे के किनारे वेस्ट टू वंडर पार्क बनाने जा रही है जिसमें ताजमहल और कुतुबमीनार को बनाया जाएगा. इस पर नोएडा अथॉरिटी प्लानिंग कर रही है. वेस्ट टू वंडर पार्क कबाड़ में पड़े सामान से बनाए जा रहे हैं. घर, ऑफिस और फैक्ट्रियों से निकले कबाड़ से ही ताजमहल, कुतुबमीनार, सांची का स्तूप और बनारस के घाट बनाए जा रहे हैं. खास बात यह है कि पार्क में ओपन जिम भी होगा.

अगर आगरा में बने ताजमहल के सामने चाय या कॉफी पीने की ख्वाहिश रखते हैं तो ये हरसत वहां सूरक्षा कारणों से पूरी नहीं हो सकती. मगर, इस ख्वाहिश को यूपी सरकार नोएडा में पूरी करने वाली है. नोएडा. ताजमहल , कुतुबमीनार के सामने चाय और काफी पीने की हसरत अब आप नोएडा में भी पूरी कर सकते हैं. इसके लिए आपको आगरा या दिल्ली और मध्यप्रदेश और वाराणसी जाने की जरूरत नहीं होगी. नोएडा में ही ग्रेटर नोएडा एक्सप्रेस-वे के किनारे बैंच पर बैठकर ताजमहल के सामने आप कॉफी की चुस्कियों का मजा लिया जा सकता है. इसके लिए नोएडा अथॉरिटी वेस्ट टू वंडर पार्क तैयार कर रही है.

बता दें कि बच्चों के साथ पार्क का मजा देने के लिए नोएडा अथॉरिटी दो से तीन वेस्ट टू वंडर पार्क तैयार कर रही है. वेस्ट टू वंडर पार्क कबाड़ में पड़े सामान से बनाए जा रहे हैं.कबाड़ से ही ताजमहल, कुतुबमीनार, सांची का स्तूप और बनारस के घाट बनाए जा रहे हैं. नोएडा अथॉरिटी पहले भी शहर से निकलने वाले कबाड़ से कई आकृतियां बनवा चुकी है. इनमें चिल्ला बॉर्डर और मॉडल टाउन गोल चक्कर पर प्लॉस्टिक वेस्ट से बनवाया गया नोएडा का वेलकम पॉइंट और चरखा भी शामिल हैं. वेस्ट टू वंडर पार्क में भी अथॉरिटी इसको लेकर जागरुकता अभियान चलाएगी. पार्क को सजाने के लिए भी घास के साथ वेस्ट का ही उपयोग किया जाएगा.

नोएडा अथॉरिटी डॉग पार्क, विकलांग पार्क के प्रस्ताव पर काम कर रही है. जबकि सेक्टर-54 में वेटलैंड विकसित करने का काम पहले ही शुरू हो चुका है. सेक्टर-91 में भी वेटलैंड का काम शुरू होने में थोड़ी सी प्रक्रिया बाकी रह गई है. वेस्ट टू वंडर पार्क का निर्माण पीपीपी मॉडल पर होगा. इसमें प्रदेश की धरोहरों, ऐतिहासिक व पौराणिक स्थलों की आकृतियां वेस्ट से बनाई जाएंगी. इस तरह का यह यूपी में पहला पार्क होगा.