सिटी न्यूज़

गौतमबुद्ध नगर: भाजपा विधायक सौरभ श्रीवास्तव और बीकानेरवाला के मालिकों पर केस दर्ज, जानिए क्या है मामला

गौतमबुद्ध नगर: भाजपा विधायक सौरभ श्रीवास्तव और बीकानेरवाला के मालिकों पर केस दर्ज,  जानिए क्या है मामला
UP City News | Jun 23, 2022 07:56 AM IST

गौतमबुद्ध नगर. देश की राजधानी दिल्ली से सटे ग्रेटर नोएडा में थाना दादरी पुलिस ने वाराणसी से भाजपा विधायक सौरभ श्रीवास्तव और मिठाई और नमकीन निर्माता कंपनी बीकानेरवाला के मालिकों सहित 18 लोगों के खिलाफ गंभीर आरोपों में एफआईआर दर्ज की गई है. जब पुलिस केस दर्ज करने में आनाकानी कर रही थी तो न्यायालय के आदेश पर ये मुकदमा दर्ज हुआ है.

दिल्ली में वेस्ट विनोद नगर मंडावली के रहने वाले कुलदीप ने गौतमबुद्ध नगर के अपर मुख्य न्यायिक मजिस्ट्रेट की अदालत में अर्जी दाखिल करते हुए वाराणसी से भारतीय जनता पार्टी के विधायक सौरभ श्रीवास्तव और नमकीन व स्नैक्स निर्माता कंपनी बीकानेरवाला के मालिकों पर धोखाधड़ी, जालसाजी, संपत्ति पर अवैध कब्जा करने, मारपीट करने, जान से मारने की धमकी देने और आपराधिक षड्यंत्र रचने जैसे आरोप लगाएं हैं. इस मामले में अपर मुख्य न्यायिक मजिस्ट्रेट के आदेश पर थाना दादरी पुलिस ने 6 लोगों को नामजद और 12 अज्ञात लोगों के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया है. नामजद में बीकानेरवाला के मालिक और वाराणसी के विधायक शामिल हैं. इस मामले में वाराणसी के विधायक सौरभ श्रीवास्तव का कहना है कि सारे आरोप झूठे हैं अदालत में खुलासा करेंगे.

गौतमबुद्ध नगर पुलिस ने वाराणसी से भारतीय जनता पार्टी के विधायक सौरभ श्रीवास्तव और नमकीन व स्नैक्स निर्माता कंपनी बीकानेरवाला के मालिकों समेत 18 लोगों के खिलाफ गंभीर आरोपों में एफआईआर दर्ज की है. गौतमबुद्ध नगर के अपर मुख्य न्यायाधीश के आदेश पर यह मुकदमा दर्ज किया गया है. गौतमबुद्ध नगर पुलिस का कहना है कि मामले में जांच की जा रही है.

दिल्ली में वेस्ट विनोद नगर मंडावली के रहने वाले कुलदीप ने गौतमबुद्ध नगर के अपर मुख्य न्यायिक मजिस्ट्रेट की अदालत में एक अर्जी दाखिल की. कुलदीप ने अदालत को बताया कि उनकी कंपनी मैसर्स मथन सिंह एंड संस प्राइवेट लिमिटेड का कार्यालय दादरी के मिहिरभोज डिग्री कॉलेज मार्केट में है. कंपनी का एक वेयरहाउस दादरी क्षेत्र के गांव बैरंगपुर उर्फ नई बस्ती में बनाया गया है. यह वेयरहाउस किराए पर लेने के लिए वर्ष 2018 में प्रभाकर गुप्ता ने संपर्क किया. प्रभाकर गुप्ता ने बताया कि नमकीन और स्नैक्स बनाने वाली कंपनी बीकानेरवाला के मालिक श्याम सुंदर अग्रवाल व मनीष अग्रवाल उसके रिश्तेदार हैं. इन लोगों ने विश्वास दिलाया कि अगर यह वेयरहाउस किराए पर देते हैं तो समय पर किराया देंगे. इस संपत्ति पर कोई अवैध कब्जा, धोखाधड़ी, तोड़फोड़ या गैरकानूनी कार्य नहीं किया जाएगा. कुलदीप ने अदालत को आगे बताया कि बीकानेरवाला एक प्रसिद्ध कंपनी है. लिहाजा, लॉन्ग टर्म एग्रीमेंट को ध्यान में रखते हुए हमारी कंपनी ने उनकी कंपनी के साथ बाजार दर के मुकाबले 40% कम दरों पर किरायानामा पंजीकृत करवाया.

बीकानेरवाला न किया गैर कानूनी काम
कुलदीप ने अदालत को बताया कि श्याम सुंदर अग्रवाल और मनीष अग्रवाल के नौकरों और मैनेजरों ने तमाम तरह की सुविधाएं और उपकरण वेयरहाउस में लगाने के लिए कहा था. यह सारी चीजें तैयार करके उन्हें दी गईं. वेयरहाउस का किरायानामा 24 दिसंबर 2018 को अगले 9 वर्षों के लिए रजिस्टर्ड करवाया गया. इस लीजडीड में 3 वर्ष का लॉक-इन पीरियड था. इन 3 वर्षों के बाद हमारी कंपनी को वेयरहाउस खाली करवाने का अधिकार दिया गया था. कुलदीप ने अदालत को आगे बताया कि बीकानेरवाला कंपनी ने वेयरहाउस अपने कब्जे में लेने के बाद तोड़फोड़ शुरू कर दी. नक्शों को दरकिनार करते हुए निर्माण करवाने लगे. कंपनी के कर्मचारी इस वेयरहाउस में अवैध कारोबार कर रहे थे. यह लोग यहां अवैध पैकेजिंग का काम करते थे. जिसका हम लोगों ने विरोध किया.