सिटी न्यूज़

सीएम योगी के ड्रीम प्रोजेक्ट में आई लापरवाही की दरार, खुले आसामान में ग्रामीण, पढ़ें ये रिपोर्ट

सीएम योगी के ड्रीम प्रोजेक्ट में आई लापरवाही की दरार, खुले आसामान में ग्रामीण, पढ़ें ये रिपोर्ट
UP City News | Jul 22, 2021 10:29 AM IST

नोएडा. ग्रेटर नोएडा में मुख्यमंत्री का ड्रीम प्रोजेक्ट जेवर इंटरनेशनल एयरपोर्ट बनने जा रहा है. जेवर एयरपोर्ट के अंदर आने वाले लगभग 6 गांवों को दूसरी जगह सेक्टर बनाकर विस्थापित किया जा रहा है. हल्की सी बरसात ने यमुना प्राधिकरण की पोल खोल दी है. शिफ्ट किए जा रहे ग्रामीणों के घरों में बनने से पहले ही हल्की सी बरसात से दरार आ गई हैं. कई जगह दीवारें गिर गई हैं और सड़के टूट गईं है. जगह-जगह पानी भर गया है. किसान ग्रामीण इस तपती गर्मी और बरसात में खुले आसमान के नीचे रात बिताने को मजबूर हैं. न बिजली है ना पानी है ना ही शौचालय हैं.

राजधानी दिल्ली से सटे ग्रेटर नोएडा में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ का ड्रीम प्रोजेक्ट जेवर इंटरनेशनल एयरपोर्ट एशिया का सबसे बड़ा एयरपोर्ट बनने जा रहा है. जेवर में बनने जा रहे एयरपोर्ट के तहत आने वाले 6 गांवों को सेक्टर बनाकर शिफ्ट किया जा रहा है. लगभग 3000 परिवारों को इस सेक्टर में बसाया जाएगा. किसानों को इस सेक्टर में बसाने का काम किया जा रहा है. आधी अधूरी तैयारियों के साथ प्रशासन और यमुना प्राधिकरण ने गांव में बने किसानों के आशियाने को पहले जेसीबी चलाकर उजाड़ दिया. विस्थापित किसानों के लिए अभी वहाँ पर बिजली पानी शौचालय नहीं बने हैं. मूलभूत सुविधाओं से वंचित हैं ग्रामीण.

Crack of negligence in CM Yogi's dream project, Jewar airport project, villagers in open sky, UP Government, Yamuna Authority, सीएम योगी के ड्रीम प्रोजेक्ट, जेवर एयरपोर्ट प्रोजेक्ट में लापरवाही की दरार, खुले आसमान में ग्रामीण, यूपी सरकार, यमुना अथॉरिटी,

एक दिन की हल्की सी बरसात क्या हुई बरसात ने प्राधिकरण की पोल खोल कर रख दी. सड़कों में जगह-जगह पानी भर गया सड़कें टूट गई और इस कॉलोनी के अंदर बना रहे घरों की दीवारों में दरारे आ गईं हैं. कहीं दीवारें गिर गई तो कहीं छत गिर गई. यानी कि प्रशासन की आधी अधूरी तैयारियों से किसानों का आशियाना बनने से पहले ही बिखरने लगा है. किसानों का कहना है कि प्राधिकरण ने जल्दबाजी में हमारे गांव के घरों को खाली कराकर तोड़ दिया. इस कोविड-19 और बरसात में किसान प्राधिकरण की लापरवाही से खुले आसमान के नीचे रात बिताने को मजबूर हैं. किसानों का कहना है कि यहां पर किसानों को बसाने के लिए सेक्टर बनाए गए हैं, लेकिन यह सेक्टर प्रॉपर तरीके से मानको पर काम नहीं किया.

सड़कें भी कुछ ही महीनों में टूटने लगी है. मकानों में दरार आ रही है। मिट्टी को प्रॉपर तरीके से नहीं दबाया गया। जिसकी वजह से मकानों के अंदर दरारे आना शुरू हो गई हैं. कालोनी में बने कई मकानों की दीवार गिर गई है. हालांकि प्राधिकरण ने किसानों को मटेरियल का अलग से 5 लाख दिया था. किसानों का कहना है कि जेवर में बन रहे किसानों के लिए सेक्टर में यमुना प्राधिकरण के ठेकेदार ने लापरवाही से काम किया है. जिसकी वजह से सड़के बनने से पहले ही टूटने लगी है. मकानों के अंदर दरारे आ गई हैं कई मकानों की दीवार गिर गई है. सड़कों को पूरी तरह से मानको पर नहीं बनाया गया. सड़क बनाते समय उनमें मटेरियल सही नहीं लगाया गया। सेक्टर की मिट्टी बरसात के करण बैठने लगे हैं. कई जगह सड़कों में पानी भर गया है.