सिटी न्यूज़

भाड़े के हत्यारों से पत्नी ने करायी पति की हत्या, पांच गिरफ्तार

भाड़े के हत्यारों से पत्नी ने करायी पति की हत्या, पांच गिरफ्तार
UP City News | Sep 14, 2021 02:36 PM IST

बदायूं. उत्तरप्रदेश के बदायूं के जरीफनगर इलाके में चार सितंबर की रात घर में घुसकर रोहिताश नाम के युवक की गोली मारकर हत्या के मामले का पुलिस ने खुलासा कर दिया है. पति की हत्या पत्नी ने सुपारी के रूप में तीन बीघा खेत देकर करायी. इस हत्याकांड की राजदार बेटी भी बनी. पुलिस ने सुपारी लेकर हत्या करने वाले तीन शातिरों समेत पत्नी व बेटी को गिरफ्तार कर लिया है.

एसएसपी संकल्प शर्मा ने खुलासा करते हुये बताया कि चार सितंबर की रात दांदरा गांव निवासी रोहिताश नाम के युवक की घर में घुसने के बाद दो गोलियां मारकर हत्या कर दी गयी थी. वारदात उस वक्त हुयी, जब वह अपने घेर में सो रहा था. पुलिस ने इस मामले में रोहिताश की पत्नी बरफा देवी की ओर से भांजे ब्रजेश व ससुर वीरपाल समेत दो अज्ञात के खिलाफ हत्या का मुकदमा कायम किया था.

मामले की तफ्तीश शुरू हुयी तो घटनाक्रम का रुख बदला दिखा. नामजदों को हिरासत में लेकर पूछताछ का सिलसिला चला. जांच में सामने आया कि संभल की कोतवाली गुन्नौर इलाके के गांव मेंदावली निवासी बालिस्टार यादव, उसका बेटा प्रेम यादव समेत प्रेम का दोस्त मोनू कश्यप निवासी गांव रामगढ़ नई बस्ती खड़खड़ी थाना कोतवाली, हरिद्वार उत्तराखंड ने इस घटना को अंजाम दिया.

जरीफनगर इंस्पेक्टर सुधारकर पाण्डेय ने बताया कि वारदात को रोहिताश की पत्नी बरफा देवी ने अंजाम दिलाया था. उसकी नाबालिग बेटी भी इसमें बराबरी की भागीदार थी. हत्या के लिये तीन लाख रुपये में सौदा हुआ. रुपये न होने पर सहसवान जाकर तीन बीघा खेत हत्यारोपी के नाम कर दिया.

रकम नहीं थी तो दे डाली जमीन

बरफा के पास तीन लाख रुपये नहीं थे, ऐसे में उसने अपनी तीन बीघा जमीन का बैनामा 31 अगस्त को बालिस्टर के नाम किया था. इसके बाद से उसने अपने पति की हर गतिविधि की रेकी की और चौथे दिन ही हत्या कराई. इतना ही नहीं पिता के कत्ल के बाद भी बेटी पुलिस आने से लेकर पूछताछ व जांच के पहलुओं के बारे में कातिलों को बताती रही.

यह बनी वजह

पूछताछ में बरफा ने बताया कि पति के आरोपी ब्रजेश से जुड़ी महिला के साथ अवैध संबंध थे. सारी संपत्ति वह उस महिला के नाम न कर दे, इस डर के चलते उसकी हत्या कराई. बेटी से हर बात साझा करती थी, इसलिए उसे भी मजबूरी बताते हुए इस गुनाह में शामिल करने से एक मां नहीं चूकी.