सिटी न्यूज़

आजमगढ़ और रामपुर सीट के लिए आज हो रहा मतदान, सपा-भाजपा की प्रतिष्ठा दांव पर

आजमगढ़ और रामपुर सीट के लिए आज हो रहा मतदान, सपा-भाजपा की प्रतिष्ठा दांव पर
UP City News | Jun 23, 2022 09:59 AM IST

लखनऊ/आजमगढ़/रामपुर. समाजवादी पार्टी (Samajwadi Party) के अध्यक्ष अखिलेश यादव (Akhilesh Yadav) और पार्टी के कद्दावर नेता आजम खान के आजमगढ़ और रामपुर सीट इस्तीफा देने के बाद गुरुवार को दोनों ही जगह पर लोकसभा उपचुनाव हो रहा है. सुबह 7:00 बजे से मतदान की प्रक्रिया शुरू हो गई है दोनों ही सीटों पर मतदान करने के लिए वोटरों में उत्साह दिखाई दिया है. सुबह से ही बूतों पर वोटरों की कतार लग गई है. गर्मी होने के बावजूद सुबह 9:00 बजे तक रामपुर में 7.86 फ़ीसदी जबकि आजमगढ़ में 9.21 फीसदी मतदान हो गया था. यहां दोनों सीट पर सपा का कब्जा था और अब इस पर सपा के साथ ही भाजपा की प्रतिष्ठा भी दांव पर लगी है. क्योंकि भाजपा हर हाल में इन दोनों सीटों पर कब्जा करना चाह रही है. गुरुवार को मतदान प्रक्रिया खत्म होने के बाद 26 जून को दोनों सीटों के नतीजे आएंगे.

जानकारी के लिए बता दें कि बहुजन समाज पार्टी ने रामपुर में प्रत्याशी नहीं उतारा है लेकिन आजमगढ़ में गुड्डू जमाली को बसपा का उम्मीदवार बनाया गया है. इस वजह से यहां पर लड़ाई त्रिकोणीय भी कही जा रही है. सपा भाजपा और बसपा तीनों अपनी-अपनी जीत के दावे कर रहे हैं. भाजपा ने दोनों सीट पर इस बार अपनी पूरी ताकत झोंकी है. जबकि अखिलेश यादव ने खुद चुनाव प्रचार से दूर रखा है. वा न तो रामपुर गए न ही आजमगढ़ आए. अलबत्ता रामपुर में आजम खान ने प्रचार का भार अपने कंधों पर उठाए रखा था और उन्होंने प्रचार किया. आजम खान ने आजमगढ़ में भी धर्मेंद्र यादव के लिए प्रचार किया था.

दिल्ली: थाने में सिरफिरे चाकूबाज ने 5 पुलिसकर्मियों को मारा चाकू फिर दीवार से फोड़ लिया अपना सिर

इसी साल हुए विधानसभा चुनाव में जीत के बाद सपा के अखिलेश यादव और आजम खान द्वारा लोकसभा सदस्यता से इस्तीफा दे दिया गया था. जिसके कारण आजमगढ़ और रामपुर की सीटों पर उपचुनाव कराया जा रहा है. समाजवादी पार्टी ने आजमगढ़ में बदायूं के पूर्व सांसद धर्मेंद्र यादव को मैदान में उतारा है. जबकि भाजपा ने दिनेश लाल निरहुआ को प्रत्याशी बनाया है. वह अखिलेश यादव के सामने भी 2019 के चुनाव में प्रत्याशी थे लेकिन चुनाव हार गए थे. भाजपा ने भरोसा जताया है. उनके कांधो पर जिम्मेदारी है कि आजमगढ़ सीट को जीतकर भाजपा की झोली में डालें क्योंकि भाजपा यहां विधानसभा चुनाव में भी अच्छा प्रदर्शन नहीं कर सकी थी.