सिटी न्यूज़

लकड़ी के पुल से जान जोखिम में डालकर सफर कर रहे हैं ग्रामीण

लकड़ी के पुल से जान जोखिम में डालकर सफर कर रहे हैं ग्रामीण
UP City News | Jul 22, 2021 06:01 PM IST

मुरादाबाद. उत्तराखंड के पहाड़ों पर हो रही भारी बारिश का असर पश्चिम उत्तर प्रदेश के मैदानी इलाकों में भी साफ नजर आ रहा है. मुरादाबाद जनपद के कुन्दरकी ब्लाक के जातियां फिरोजपुर में पहाड़ों पर हो रही भारी बारिश का पानी कोसी नदी में पहुंच गया है. पानी ज़्यादा आने की वजहा से गगन नदी अपने पूरे उफान पर आ गई है. ग्रामीणों ने नदियों को पार कर खेत मे आने जाने के लियें गगन नदी लकड़ी का पुल बनाया था. आज वो लकड़ी का पुल भी पूरी तरहां पानी में डूबता हुआ नज़र आ रहा है. जिसके बाद किसान जन जोखिम में डालकर मौत का सफर करने को मजबूर है.मौसम विभाग के मुताबिक आने वाले अभी कई दिन तक पहाड़ों पर भारी बारिश होने के आसार हैं. इस कारण नदियों में पानी बढ़ने से वो उफान पर आई हैं.

पहाड़ों पर लगातार हो रही बारिश का असर अब नदियों में भी दिखने लगा है. लेकिन इन नदियों को पार कर किसानों को अपने खेतों में रोज आना और जाना पड़ता है. जिसके लिए उन्होंने नदियों पर लकड़ी के पुल बना रखे हैं.लेकिन अब नदियों में पानी बढ़ने से यह पुल भी डूबते हुए नज़र आ रहे हैं. लेकिन ग्रामीण अभी भी इन पुल का इस्तेमाल कर अपनी जान को खतरे में डाल रहे हैं. जिला प्रशासन द्वारा कई बार ग्रामीणों से यह अपील की गई है कि वह अपनी जान को खतरे में डालकर नदियों को पार न करें. फिर भी ग्रामीण खेत में जाने के लिए इस पुल का इस्तेमाल करते है.अपनी जन को जोहीम में डालकर ग्रामीणों का कहना है सरकार को यहा पर पके पुल की निर्माण करा देना चाहिए. क्युकी इस पुल से २० गावों का रास्ता है.

वरना मुरादाबाद से कई किलोमीटर का रास्ता ताए करके ग़ांव अना पड़ता है. जिस वजहा से ग्रामीणों को काफी परेशानी होती है. जिसको लेकर लगातर ग्रामीणों आवाज़ उठाए है. लेकिन न तो सरकार इस ग्रामीणों की अज्वाज़ सुन रही है, न ही जिला पिर्शासन इस ओर कोई दिहन दे रहा है.जब इस जन जोखिम में डालकर सफर कर रहे ग्रामीणों को लेकर जब कुंदरकी ब्लाक के ग्राम पंचायत जातियां फिरोजपुर के ग्राम प्रधान माननीय सिंह से बात की तो उन्होंने जानकारी देते हुए बताया तकरीबन 20 से 22 गांव इस पुल से जुड़े हुए हैं जिस वजह से सभी लोग इस पुल का इस्तेमाल कर रहे थे.कई बार इस पुल को बनवाने की मांग उठाई गई है कई सारी समस्याएं हैं. इसको लेकर पुल बनवाने की मांग कई बार उठी है लेकिन कोई सुनने को तैयार नहीं है.