सिटी न्यूज़

मां बोली-बेटा तड़पता रहा लेकिन उन्‍हें तरस नहीं आया, मेरी आखों के सामने चाकू से वार करते रहे

मां बोली-बेटा तड़पता रहा लेकिन उन्‍हें तरस नहीं आया, मेरी आखों के सामने चाकू से वार करते रहे
UP City News | Feb 23, 2021 10:23 AM IST

मेरठ. के किठौर में झूठी शान के लिए एक युवक की चाकू से गोदकर हत्या कर दी गई. मृतक के परिजनों ने आरोपी युवक को मौका ए-वारदात पर ही दबोच लिया और पुलिस के हवाले कर दिया था. लेकिन जब एक माँ ने अपने बेटे की मौत के मंजर के बारे में बताया तो लोगों का दिल छलनी हो गया. मृतक श्रवण की मां की आपबीती सुनकर हर कोई अवाक रह गया.

मृतक श्रवण की मां कमलेश ने पुलिस को बताया कि रविवार को बेटा श्रवण और बहू राधिका घर आए थे. बेटा बहू को घर के गेट के बाहर छोड़कर किसी काम से चला गया था. कमलेश के अनुसार आरोपियों को श्रवण के गांव आने की जानकारी हो गई थी इसलिए वह उसका घात लगाकर इंतजार कर रहे थे. जैसे ही श्रवण वापस लौटा आरोपियों ने उसे घेर लिया और उस पर जानलेवा हमला कर दिया. श्रवण की चीख पुकार सुनकर जब वह लोग बाहर आए तो देखा कि आरोपी बेटे पर चाकू से ताबड़तोड़ हमले कर रहे थे और वह हमले की वजह से लहूलुहान होकर तड़प रहा था लेकिन हमलावरों का दिल नहीं पसीजा. उस समय ऐसा लग रहा था जैसे हमलावरों के सिर पर खून सवार था. कमलेश ने बताया कि हमलावरों ने हैवानियत की सारी हदें पार कर दी थी. उन्होंने श्रवण के सीने और पेट में चाकू से कई वार करें. जब श्रवण लहूलुहान होकर जमीन पर गिर पड़ा तो उसकी सीने पर पैर रखकर खड़े हो गए.

भाइयों ने ही उजाड़ दिया मांग का सिंदूर
श्रवण की मौत के बाद उसकी पत्नी राधिका का रो रो कर बुरा हाल है. वह बात करते-करते बदहवास हो जाती है और कहने लगती है कि उसके भाइयों ने ही उसकी मांग का सिंदूर उजाड़ दिया. राधिका का कहना है उसके भाइयों ने धमकी तो दी थी लेकिन वह इस हद तक चले जाएंगे इसके बारे में वह कभी भी सोच नहीं सकती थी.

ये था मामला
जानकारी के अनुसार किठौर थाना क्षेत्र के गेसुपुर जनूबी निवासी श्रवण उपाध्याय (25 वर्ष) ने लगभग दो साल पहले सहपाठी राधिका से प्रेम विवाह किया था. दोनों तभी से हापुड़ जिले के पिलुखवा में रहने लगे. बताया गया कि राधिका के परिजन इस विवाद से खुश नहीं थे और श्रवण को धमकी भी दे चुके थे. सोमवार को श्रवण अपने ममेरे भाई विकल व अपनी छोटी बहन को अपने साथ गेसुपुर गांव में अपने मकान की बाउंड्री कराने के लिए आया था। लगभग 9:30 बजे श्रवण किसी काम से किराना की दुकान पर सामान लेने गया, जहां राधिका के भाई कोशिन्द्र ने उसे देख लिया. इसके बाद उसने अपने साथियों के साथ श्रवण को घर के नजदीक ही बीच रास्ते में घेर लिया और उस पर चाकू से हमला बोल दिया. उन्होंने उसके पेट व सीने पर वार किए. चाकू लगने के बाद श्रवण की अस्पताल ले जाते समय रास्ते में ही मौत हो गई.