सिटी न्यूज़

Muzaffarnagar में 5 मुस्लिम परिवारों के 15 सदस्यों ने की 'घर वापसी' हिंदू धर्म फिर अपनाया

Muzaffarnagar में 5 मुस्लिम परिवारों के 15 सदस्यों ने की 'घर वापसी' हिंदू धर्म फिर अपनाया
UP City News | Nov 09, 2021 01:35 PM IST

मुजफ्फरनगर. उत्तर प्रदेश के मुजफ्फरनगर जिले में 5 मुस्लिम परिवारों द्वारा हिंदू धर्म में वापसी करने का मामला सामने आया है. ये सभी परिवारों ने 18 वर्ष पहले अपना हिंदू धर्म छोड़कर मुस्लिम धर्म अपनाया था. जिनका मुजफ्फरनगर के बघरा ब्लॉक में स्थित आर्य समाज मंदिर में हवन यज्ञ कर शुद्धिकरण कराया गया और उन्हे हिंदू धर्म में वापसी दिलाई गई. इस दौरान सभी परिवारों के सदस्यों के गले में फूलों की माला पहनाई गई और उनका स्वागत किया गया. वहीं गायत्री मंत्र और ओम उच्चारण का जाप कराकर उनका शुद्धिकरण कराया गया।

जानकारी के मुताबिक गत 18 वर्ष पहले 5 हिंदू परिवार ने अपना धर्म परिवर्तन किया था और वे मुस्लिम बन गए थे. जिनका आर्य समाज मंदिर में हवन यज्ञ कर शुद्धिकरण कराया और हिंदू धर्म में वापसी दिलाई गई. इस दौरान आर्य समाज मंदिर के स्वामी यशवीर महाराज ने आरोप लगाया कि जब उत्तर प्रदेश में समाजवादी पार्टी की सरकार थी, तब कुछ मौलवी और मौलाओं ने मुजफ्फरनगर, सहारनपुर, बागपत और रामपुर समेत कई ज़िलों में घूमकर गरीब तबके के हिंदू परिवारों पर दबाव बनाकर उनका मुस्लिम धर्म में जबरन परिवर्तन कराया. इसी के साथ जिन परिवारों ने इसका विरोध किया तो उन्हे डराया और धमकाया गया.

इतना ही नहीं हिंदू धर्म के परिवारों को जेल भिजवाने तक की बात कही गई और मुस्लिम धर्म अपनाने की बात कही. वहीं मुस्लिम धर्म से हिंदू धर्म में वापसी कर बागपत की एक महिला ने कहा कि उन्हे बहला-फुसलाकर मुस्लिम धर्म में परिवर्तन किया गया था. पहले उनका नाम मिथलेश था, जिसे बदलकर जरीना खातून किया गया था. अब एक बार फिर हिंदू धर्म में वापसी कर जरीना खातून से मिथलेश बनी महिला ने कहा कि हमे सपा की सरकार में मुस्लिम धर्म में परिवर्तन किया गया था. लेकिन अब योगी की सरकार में उन्हे उनके धर्म में वापसी कराई गई.

आर्य समाज मंदिर के स्वामी यशवीर सिंह महाराज ने कहा कि जब उत्तर प्रदेश में समाजवादी पार्टी की सरकार थी, तब कुछ मौलवी और मौलाओं ने मुजफ्फरनगर, सहारनपुर, बागपत और रामपुर समेत कई ज़िलों में घूमकर गरीब तबके के हिंदू परिवारों पर दबाव बनाकर उनका मुस्लिम धर्म में जबरन परिवर्तन कराया. इसी के साथ जिन परिवारों ने इसका विरोध किया तो उन्हे डराया और धमकाया गया. इतना ही नहीं हिंदू धर्म के परिवारों को जेल भिजवाने की बात कहकर डराया गया.