सिटी न्यूज़

बसपा को झटके पर झटका. वंदना सिंह के बाद विधानमंडल के नेता शाह आलम ने भी दिया इस्तीफा

बसपा को झटके पर झटका. वंदना सिंह के बाद विधानमंडल के नेता शाह आलम ने भी दिया इस्तीफा
UP City News | Nov 25, 2021 06:59 PM IST

लखनऊ. विधानसभा चुनाव की घोषणा अभी चुनाव आयोग ने नहीं की है लेकिन नेता नफा नुकसान का गणित लगाकर नए ठिकाने तलाशने में लगे हुए हैं. इससे किसी को झटका लग रहा है तो कोई खुद को फायदे में देख रहा है. हालांकि इस समय नेताओं के पार्टी छोड़ने और दूसरी पार्टी में शामिल होने का सिलसिला जारी है.

बुधवार को वंदना सिंह के बाद गुरूवार को भी बसपा को झटका लगा. हालांकि ये झटका बुधवार से बड़ा था क्योंकि जिन शाह आलम उर्फ गुडडू जमाली को मायावती ने विधानमंडल दल के नेता के रूप में पदस्थ किया था. उन्होंने चुनाव के ऐन पहले पार्टी छोड़ दी. शाह आलम बसपा के विधानमंडल के नेता थे.

शाह आलम आजमगढ़ के मुबारकपुर से विधायक है. मायावती ने मुस्लिम मतदाताओं को रिझाने के लिए शाह आलम को विधानमंडल का नेता बनाया था लेकिन चुनाव के पहले शाह आलम ने बसपा के सभी पदों से इस्तीफा दे दिया. उन्होंने पार्टी की मुखिया मायावती को अपना इस्तीफा सौंप दिया.

गुरूवार को वंदना सिंह बीजेपी में हुई थी शामिल

इसके पहले बुधवार को सगड़ी विधानसभा से विधायक वंदना सिंह बीजेपी में शामिल हुई थी. वह 2017 में इस सीट से विधायक बनी थी. उन्होंने राजनीति विरासत में मिली थी. उनके पति भी विधायक रह चुके हैं लेकिन उनकी हत्या के बाद उन्होंने राजनीति को आगे बढ़ाने का फैसला किया और विधायक बनी. इसके पहले बसपा के कई नेता पार्टी छोड़कर सपा में शामिल हुए थे. उस समय मायावती ने कहा था कि ये बरसाती मेढ़क है और इनके पार्टी छोड़कर जाने से न तो बसपा को कोई नुकसान होगा और न ही उस पार्टी का जनाधान बढ़ेगा. जिस पार्टी मे ये नेता जा रहे हैं क्योंकि जनता को सब कुछ पता है.