सिटी न्यूज़

पीठासीन अधिकारी बनाने से महिला टीचर्स नाराज, पूछा रात में कैसे रुक पाएंगे

पीठासीन अधिकारी बनाने से महिला टीचर्स नाराज, पूछा रात में कैसे रुक पाएंगे
UP City News | Apr 09, 2021 11:20 AM IST

लखनऊ. पंचायत चुनाव में कई जिलों में महिला शिक्षकों की ड्यूटी पीठासीन अधिकारी के रूप में लगाई गई है. जिसको लेकर महिला शिक्षिकाओं ने इसका जमकर विरोध किया और पीठासीन अधिकारी के रूप में उन्हें 1 दिन पहले रात में मतदान केंद्र पर अनिवार्य रूप से पहुंचना होगा. उनकी सुरक्षा और उनके लिए मतदान स्थल पर पर्याप्त प्रबंधना होने की वजह से हो रही समस्याओं पर बीटीसी वेलफेयर एसोसिएशन ने राज्य निर्वाचन आयोग को पत्र सौंपकर शिक्षिकाओं की समस्या से अवगत कराया है.

बता दें शिक्षिकाओं का कहना है कि पीठासीन अधिकारी होने की वजह से 1 दिन पहले उन्हें रात में केंद्रों पर पहुंचना होगा और मतदान के दिन चुनावी सामग्री आदि जमा कराने में भी देर रात तक मौजूद रहना होगा. चुनाव सामग्री जिला मुख्यालय से काफी दूर जमा होती है. इस दौरान उनकी सुरक्षा को लेकर कोई इंतजाम के निर्देश नहीं दिए गए हैं.

वही प्राइमरी स्कूलों में शौचालयों की व्यवस्था है, लेकिन वहां स्नानघर नहीं है. पुरुष कर्मचारी खुले में ही नहा लेते हैं, ऐसे में महिला शिक्षकों का पीठासीन अधिकारी के रूप में काम करने में काफी समस्याओं का सामना करना पड़ेगा. हर बार शिक्षिकाओं की ड्यूटी मतदान अधिकारी दुतीय के रूप में लगती है और वह वहां तड़के पहुंचकर काम करती है, लेकिन इस बार ऐसा नहीं है. विशिष्ट बीटीसी वेलफेयर एसोसिएशन ने राज्य निर्वाचन आयोग को पत्र सौंपकर शिक्षिकाओं की समस्या से अवगत कराया है.