सिटी न्यूज़

डीजीपी का कार्यभार संभालने के बाद देवेंद्र सिंह चौहान ने सीएम योगी आदित्यनाथ से की मुलाकात

डीजीपी का कार्यभार संभालने के बाद देवेंद्र सिंह चौहान ने सीएम योगी आदित्यनाथ से की मुलाकात
UP City News | May 13, 2022 12:59 PM IST

लखनऊ. उत्तर प्रदेश के कार्यवाहक के डीजीपी (DGP) का पद संभालने के बाद देवेंद्र सिंह चौहान ने शुक्रवार को मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से शिष्टाचार मुलाकात की. डीएस चौहान सीएम योगी आदित्यनाथ के आवास पर पहुंचे और उन्हें बुके भेंट कर मुलाकात की. बता दें कि गुरुवार को ही डीएस चौहान को कार्यवाह डीजीपी का चार्ज मिला था. जिसके बाद प्रदेश के डीजीपी का पदभार ग्रहण किया. इससे पहले प्रदेश सरकार ने चौहान को केंद्र से वापस मांगा था. केंद्र सरकार के गृह मंत्रालय ने इसके लिए स्वीकृति दी थी. डीएस चौहान को डीजीपी का अतिरिक्त चार्ज दिया गया है. उनके पास इंटेलिजेंट और विजिलेंस का चार्ज भी रहेगा.

डीएस चौहान 1988 बैच के डीजी रैंक के अफसर हैं. उन्हें मेहनती और कुछ अधिकारी माना जाता है. बीते मार्च में ही महानिदेशक पद पर प्रोन्नत किए गए थे. फिलहाल उनकी केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल सीआरपीएफ में महानिरीक्षक आईजी के पद पर तैनात थी. केंद्र सरकार ने उत्तर प्रदेश सरकार की मांग पर चौहान को उनके मूल कैडर पर भेजने की स्वीकृति दी थी. उत्तर प्रदेश पुलिस महकमे में यह घटनाक्रम तब घटा जब उत्तर प्रदेश पुलिस के प्रमुख मुकुल गोयल को बुधवार को प्रशासनिक कार्रवाई की गई थी. उन्हें उत्तर प्रदेश पुलिस के प्रमुख पद से हटा दिया गया था. डीजीपी मुकुल गोयल पर अपने कर्तव्यों की कथित रूप से उपेक्षा करने और विभागीय कार्य में रुचि न लेने के कारण यह कार्रवाई करने की बात कही गई थी.

सुप्रीम कोर्ट पहुंचा ज्ञानवापी मस्जिद का मामला, सर्वे पर रोक लगाने की मांग, जानें कोर्ट ने क्या कहा

मुकुल गोयल जून 2021 में उत्तर प्रदेश पुलिस महानिदेशक के रूप में कार्य करना शुरू किया था. उनके खिलाफ इस कार्रवाई के बाद उन्हें डीजी नागरिक सुरक्षा के रूप में तैनात किया गया है. हालांकि तबादले के पीछे अभी तक कोई आधिकारिक कारण नहीं बताया गया है. मीडिया रिपोर्ट की मानें तो शासन द्वारा गोयल को अपने विभागीय कार्य में कथित रूप से कम दिलचस्पी न दिखाने और आदेशों की अवहेलना करने के कारण यह कार्रवाई की गई है. वहीं यह भी कारण बताया जा रहा है कि पिछले महीने मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की अध्यक्षता में आयोजित एक बैठक में वह अनुपस्थित थे. तब से ही कयास लगाए जा रहे थे कि मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से नाखुश हैं.