सिटी न्यूज़

उच्च स्तरीय टीम-9 को मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने दिए निर्देश, कहा- दमकल की सुचारू व्यवस्था रखें

उच्च स्तरीय टीम-9 को मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने दिए निर्देश, कहा- दमकल की सुचारू व्यवस्था रखें
UP City News | May 16, 2022 12:50 PM IST

लखनऊ. मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने बुधवार को कोरोना वायरस को लेकर लखनऊ में टीम-9 के अधिकारियों के साथ बैठक की. कोरोना संक्रमण की चौथी लहर की आशंका के बीच मुख्यमंत्री योगी ने कोविड प्रबंधन हेतु गठित टीम-9 को दिशा-निर्देश जारी किए. सीएम योगी आदित्यनाथ ने कहा उत्तर प्रदेश में अब तक कोविड टीके की 31 करोड़ 85 लाख डोज लगाई जा चुकी है. जबकि 11 करोड़ 23 लाख से अधिक कोविड टेस्ट भी किए जा चुके हैं. 18+ आयु की पूरी आबादी को टीके की कम से कम एक डोज लग चुकी है, जबकि 89.86 प्रतिशत वयस्क लोगों को दोनों खुराक मिल चुकी है.

ट्रैक, टेस्ट, ट्रीट और टीकाकरण की नीति के सफल क्रियान्वयन से उत्तर प्रदेश में कोविड पर प्रभावी नियंत्रण बना हुआ है. वर्तमान में प्रदेश में कुल 1097 एक्टिव केस हैं. पिछले 24 घंटे में पूरे प्रदेश में 138 नए केस की पुष्टि हुई, जिसमें, गौतमबुद्ध नगर में 70, गाजियाबाद में 20, लखनऊ में 11 नए केस शामिल हैं. इसी अवधि 186 लोग स्वस्थ भी हुए. जिन जिलों में केस अधिक मिल रहे हैं वहां सार्वजनिक स्थानों पर फेस मास्क लगाया जाना अनिवार्य है. इसे लागू कराएं. लोगों को जागरूक करें. पॉजिटिव पाए गए लोगों के स्वास्थ्य पर सतत नजर रखी जाए.

उत्तर प्रदेश में कोविड टीके की 32 करोड़ से अधिक डोज लगाई जा चुकी है. जबकि 11 करोड़ 29 लाख से अधिक कोविड टेस्ट भी किए जा चुके हैं. 18+ आयु की पूरी आबादी को टीके की कम से कम एक डोज लग चुकी है, जबकि 90.53% वयस्क लोगों को दोनों खुराक मिल चुकी है. 15 से 17 आयु वर्ग में 96.24% से अधिक किशोरों को पहली खुराक मिल चुकी है और 71.67% से किशोरों को दोनों डोज लग चुकी है. 12 से 14 आयु वर्ग में 75.20% से अधिक बच्चे टीकाकवर पा चुके हैं, इन्हें दूसरे डोज लगाया जाना भी शुरू हो चुका है. कई जनपदों में बच्चों के टीकाकरण और वयस्कों के बूस्टर डोज लगाए जाने को और तेज किए जाने की जरूरत है.

एम्बुलेन्स संचालन से जुड़े कार्मिकों के विशेष प्रशिक्षण की आवश्यकता है. पीड़ित/घायल लोगों के साथ अतिरिक्त संवेदनशीलता बरती जानी चाहिए. एम्बुलेंस के रेस्पॉन्स टाइम को कम से कम करने के लिए तकनीक का सहारा लिया जा सकता है. वॉलंटियर्स को भी इस कार्य से जोड़ना होगा. सभी बहुमंजिला भवनों, अस्पतालों, शॉपिंग कॉम्प्लेक्स आदि में अग्निशमन व्यवस्थाओं का सघन निरीक्षण किया जाए. पूरे प्रदेश में तत्काल अभियान चलाकर यह कार्य किया जाए. सभी फायर स्टेशन पूरी मुस्तैदी से कार्यरत रहें.