सिटी न्यूज़

पंचायत चुनाव लड़ने की तैयारी करने वाले जान लें ये बात, नहीं तो नामांकन हो जाएगा कैंस‍िल

पंचायत चुनाव लड़ने की तैयारी करने वाले जान लें ये बात, नहीं तो नामांकन हो जाएगा कैंस‍िल
UP City News | Feb 24, 2021 11:26 AM IST

लखनऊ. पंचायत चुनाव लड़ने वालों के लिए बुरी खबर सामने आ रही है, जिसमें यह कहा गया है. यदि नामांकन दाखिल करने वाले पर बैंक का कोई भी उधार है तो उसका नामांकन रद्द हो सकता है. क्योंकि नामांकन के साथ ही उम्मीदवारों को पहली बार सहकारी बैंक या सहकारी समिति का नोड्यूज भी लगाना होगा. जिलाधिकारी ने इस बाबत एक निर्देश डीपीआरओ व सभी बीडीओ को भेजा है.

जिलाधिकारी ने अपने निर्देश में साफ कर दिया है कि यदि नामांकन के दौरान सहकारी बैंक व समिति का नोड्यूज नहीं लगाया तो चुनाव लड़ने में मुश्किल होगी. नोड्यूज न लगाने वालों का नामांकन भी रद्द हो सकता है. सीडीओ प्रभाष कुमार ने कहा कि सभी ब्लाकों को पत्र जारी किया गया है कि वह नामांकन के समय उम्मीदवारों से सहकारिता का नो ड्यूज लेना सुनिश्चित करें. वह बताते हैं कि चुनाव लड़ने वालों पर पंचायत कर के अलावा अन्य बकाया नहीं होनी चाहिए. क्योंकि राजधानी में 33 हजार से अधिक ग्रामीण, जिला सहकारी बैंक व सहकारी समितियों के बकायेदार हैं. इन पर करीब 37.63 करोड़ की देनदारी है. यह ऋण कृषि कार्य के लिए लिया गया था.

इस तरह हो सकेगी वसूली
राजधानी में सहकारी ग्राम विकास बैंक, जिला सहकारी बैंक से वित्तपोषित सहकारी समितियों से ऋण वितरण की वसूली की स्थिति बहुत खराब है. इस कारण से एनपीए खातों की संख्या बढ़ती जा रही है. पंचायत चुनाव में बड़े बकायेदार पंचायत चुनाव लड़ सकते हैं. इसे देखते हुए प्रत्याशियों को सहकारी बैंक की सहकारी समितियों से नोड्यूज लगाने को कहा गया है.