सिटी न्यूज़

गर्मी में इम्यूनिटी बढ़ाना चाहते हैं तो इन फलों और सब्जियों का करें सेवन

गर्मी में इम्यूनिटी बढ़ाना चाहते हैं तो इन फलों और सब्जियों का करें सेवन
UP City News | Aug 05, 2022 11:58 AM IST

नई दिल्ली. अच्छे स्वास्थ्य को बनाए रखने के लिए एक स्वस्थ आहार आवश्यक है. खासकर मानसून के मौसम में, जब कई लोग विभिन्न जीवाणु संक्रमण से बीमार हो जाते हैं. नतीजतन अच्छे स्वास्थ्य को बनाए रखने के लिए मानसून के मौसम में विभिन्न प्रकार के फलों और सब्जियों का सेवन करना महत्वपूर्ण है. बाजार में कई तरह के ताजे और मौसमी फल और सब्जियां उपलब्ध हैं जो संक्रमण से लड़ने और रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाने में मदद कर सकती हैं. वजन घटाने से लेकर बीमारी की रोकथाम तक इस ताजा उत्पाद के कई स्वास्थ्य लाभ हैंए इसलिएए आपको इनका सेवन करने से नहीं चूकना चाहिए. यहां कुछ फल और सब्जियां दी गई हैं जो इस मानसून में आपको स्वस्थ रहने और आपकी रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाने में मदद कर सकती हैं.

मानसून के दौरान आलूबुखारा युक्त आहार आपकी प्रतिरक्षा को बढ़ावा देगा और इस मौसम की सामान्य बीमारियों को दूर रखेगा. क्योंकि इनमें विटामिन सी और के, पोटेशियम, तांबा और फाइबर होता है. प्लम खाने के लिए मानसून का मौसम एक अच्छा समय है. क्योंकि उनके पास शक्तिशाली स्वास्थ्य लाभ हैं. इसके अतिरिक्त आलूबुखारा कब्ज में भी मदद करता है.

हम सभी कभी न कभी कम हीमोग्लोबिन के स्तर का अनुभव करते हैं. मानसून की सभी सब्जियों में चुकंदर ही एकमात्र ऐसी सब्जी है जो हीमोग्लोबिन के स्तर को बढ़ाने में मदद कर सकती है. मैंगनीज. फाइबर, विटामिन सी, पोटेशियम और आयरन जैसे खनिजों से युक्त होने के अलावा चुकंदर उन लोगों के लिए एक आदर्श खाद्य स्रोत है. जिन्हें उच्च स्तर के पोषक तत्वों की आवश्यकता होती है. अधिक से अधिक स्वास्थ्य लाभ प्राप्त करने के लिए. इसका नियमित रूप से जूस, सूप या सलाद के रूप में सेवन करें ताकि बढ़े हुए परिसंचरण और रक्तचाप को नियंत्रित किया जा सके. अपने उच्च प्रतिरक्षा स्तर के कारण चुकंदर बरसात के मौसम में खाने के लिए आदर्श है.

जामुन में कैल्शियम होता है, जो रक्त शर्करा के स्तर को नियंत्रित करने के लिए फायदेमंद होता है. इसके अलावा फल पेट की समस्याओं में भी मदद कर सकता है जो मानसून के मौसम में आम हैं. साथ ही ये फल ब्लड सर्कुलेशन, लीवर फंक्शन और किडनी फंक्शन को बढ़ाते हैं. विटामिन सी और फाइबर में उच्च होने के अलावा जामुन में आयरन भी होता है, जो प्रतिरक्षा प्रणाली को मजबूत करने में सहायक होता है.

इन लक्षणों को न करें नज़रअंदाज़, हो सकती है आयरन की कमी, इन तीन चीज़ों के सेवन से दूर होगी आपकी परेशानी

भारत में मानसून का मौसम इसकी उच्च जल सामग्री के कारण लीची की खेती के लिए आदर्श है. यह फलों का रस सर्दीए एसिड रिफ्लक्स और पाचन समस्याओं जैसी बीमारियों के लिए एक उपाय प्रदान कर सकता है. लीची उन अस्थमा रोगियों की भी सहायता कर सकती है जिन्हें बरसात के मौसम में सांस लेने में कठिनाई होती है. इसके अलावा लीची को मानव शरीर के लिए प्रतिरक्षा बूस्टर के रूप में जाना जाता है.