सिटी न्यूज़

विवि: जुलाई के तीसरे हफ्ते से ओएमआर शीट पर होंगी परीक्षाएं, परीक्षा समिति की बैठक में लिया गया निर्णय

विवि: जुलाई के तीसरे हफ्ते से ओएमआर शीट पर होंगी परीक्षाएं, परीक्षा समिति की बैठक में लिया गया निर्णय
UP City News | Jun 11, 2021 09:51 AM IST

आगरा. डॉ. भीमराव आंबेडकर विश्वविद्यालय की परीक्षा समिति की बैठक बृहस्पतिवार खंदारी परिसर स्थित अतिथि गृह में हुई. इसमें निर्णय लिया गया कि स्नातक द्वितीय व तृतीय वर्ष और परास्नातक अंतिम वर्ष की परीक्षाएं जुलाई के तीसरे हफ्ते से कराई जाएंगी. परीक्षाएं 15 अगस्त तक चलेंगी और 31 अगस्त तक परिणाम घोषित कर दिया जाएगा. सभी परीक्षाएं ओएमआर शीट पर कराई जाएंगी.

कुलपति प्रो. अशोक मित्तल की अध्यक्षता में हुई बैठक में निर्णय लिया गया कि सभी परीक्षाएं ओएमआर शीट आधारित कराई जाएंगी और प्रश्नपत्र को हल करने के लिए डेढ़ घंटे का समय दिया जाएगा. प्रत्येक प्रश्नपत्र में कुल 100 वस्तुनिष्ठ प्रश्न पूछे जाएंगे. इसमें से छात्र-छात्राओं को 50 प्रश्नों के ही उत्तर देने होंगे. सेमेस्टर प्रणाली में चल रहे स्नातक और परास्नातक पाठ्यक्रमों के अंतिम सेमेस्टर की परीक्षाएं कराई जाएंगी.

बैठक में कुलसचिव डॉ. अंजनी कुमार मिश्र, परीक्षा नियंत्रक डॉ. राजीव कुमार, वित्त अधिकारी एके सिंह, प्रो. उमेश चंद शर्मा, प्रो. प्रदीप श्रीधर, प्रो. पीके सिंह, प्रो. अनिल वर्मा, औटा के अध्यक्ष डॉ. ओमवीर सिंह, महामंत्री डॉ. भूपेंद्र चिकारा, डॉ. निर्मला यादव और सहायक कुलसचिव पवन कुमार रहे.

द्वितीय वर्ष की परीक्षा के आधार पर मिलेंगे प्रथम वर्ष के अंक
बैठक में निर्णय लिया गया कि स्नातक प्रथम वर्ष के छात्र-छात्राओं को प्रोन्नत किया जाएगा. वर्ष 2022 में द्वितीय वर्ष की परीक्षा में प्राप्त अंकों के आधार पर उनके प्रथम वर्ष के अंक दिए जाएंगे. इसी तरह परास्नातक अंतिम प्रथम वर्ष के छात्रों को अंतिम वर्ष में प्रोन्नत किया जाएगा. इनकी वर्ष 2022 की अंतिम वर्ष की परीक्षाओं के आधार पर प्रथम वर्ष के अंक निर्धारित किए जाएंगे.

कराई जाएगी मौखिक परीक्षा
आगरा. प्रायोगिक परीक्षा वाले विषयों में प्रायोगिक परीक्षा और मौखिकी को मिलाकर अब मौखिक परीक्षा ही कराने का निर्णय लिया गया है. मौखिक परीक्षाओं की वीडियोग्राफी अनिवार्य होगी और 75 फीसदी से अधिक अंक नहीं दिए जा सकेंगे. सभी मौखिक परीक्षाएं एक से 15 जुलाई तक संपन्न कराई जानी हैं. जिससे निर्धारित अवधि में परिणाम घोषित किया जा सके.