सिटी न्यूज़

Good news : अब अल्पसंख्यक वर्ग छात्रों को नीट—आईआईटी—जेईई की नि:शुल्क कोचिंग देगी मोदी सरकार

Good news : अब अल्पसंख्यक वर्ग छात्रों को नीट—आईआईटी—जेईई की नि:शुल्क कोचिंग देगी मोदी सरकार
UP City News | Nov 23, 2021 11:06 AM IST

लखनऊ. मोदी सरकार ने अल्पसंख्यक वर्ग के छात्रों को तोहफा दिया है. अल्पसंख्यक कार्य मंत्रालय प्रदेश के पांच जिलों में अल्पसंख्यक वर्ग के छात्रों के लिए नि:शुल्क कोचिंग खोलने जा रहा है. इन कोचिंग सेंटरों पर नीट (NEET) और आईआईटी—जेईई (IIT-JEE) की तैयारी कराई जाएगी. यह कोचिंग सेंटर एक दिसंबर से शुरू होंगे. कोचिंग सेंटर पर पढ़ने के इच्छुक छात्रों से अल्पसंख्यक मंत्रालय ने आवेदन मांगे हैं. इन सेंटर्स पर एक दिसंबर से छह माह तक पढ़ाई कराई जाएगी. इसके साथ ही आर्थिक रूप से कमजोर छात्रों को 15000 रुपये का भत्ता भी प्रदान किया जाएगा.

UP City News, UP Hindi News, Lucknow News, Ministry of Minority Affairs, Free Coaching Centre, IIT-JEE, NEET, upnews, news, uttarpradesh, breakingnews, hindinews, dailynews, uttarpradeshnews, up, todaynews

अल्पसंख्यक कार्य मंत्रालय के सेक्रेटरी एस. अहमद ने बताया कि कोचिंग में पढ़ने के लिए आवेदक को नीट (NEET) और आईआईटी—जेईई (IIT-JEE) परीक्षा संबंधी सभी अर्हताएं पूरी करना अनिवार्य है. इसके साथ ही पढ़ने के इच्छुक छात्रा के अभिभावकों की वार्षिक आय छह लाख रुपये कम होनी चाहिए. इच्छुक छात्र आवदेन करने के लिए लिंक https://pmtcollege.netlify.aap/ प्राप्त करने के लिए मोबाइल नंबर 8948120989 पर मिस कॉल कर सकते हैं अथवा सेंटर्स पर संपर्क कर सकते हैं. उन्होंने बताया कि एक दिसंबर से शुरू होने वाली कोचिंग का लाभ लेने के लिए छात्र को हाईस्कूल व इंटरमीडिएट के अंकपत्र, आधार कार्ड की फोटोकॉपी, बैंक पासबुक, अभिभावकों का आय प्रमाणपत्र और दो पासपोर्ट साइज रंगीन फोटो के साथ संपर्क करना होगा.

ये भी पढ़ें: इस बार बड़े पैमाने पर छात्रवृत्ति देने की तैयारी में यूपी सरकार, इतनों को मिलेगा लाभ

अल्पसंख्यक कार्य मंत्रालय के सेक्रेटरी एस. अहमद ने बताया कि ये सेंटर्स फिलहाल लखनऊ, गोरखपुर, बरेली, भदोही और वाराणसी में खोले जा रहा हैं. लखनऊ और गोरखपुर में 200—200, गोरखपुर और वाराणसी में 100—100 और भदोही में 50 सीटें रखी गई हैं. यहां आगामी छह माह तक नीट (NEET) और आईआईटी—जेइई (IIT-JEE) की परीक्षा की तैयारी स्पेशलिस्ट शिक्षकों के माध्यम से कराई जाएगी. मोदी सरकार की यह योजना निश्चित ही गरीब वर्ग के छात्रों के लिए वरदान साबित होगी. माना जा रहा है कि यह प्रयोग सफल होने के बाद मोदी सरकार अन्य प्रदेशों और शहरों में भी इस प्रकार की कोचिंग सेंटर्स की शुरुआत कर सकती है.