सिटी न्यूज़

सीबीएसई: एफएक्यूज के माध्यम से बना सकते हैं गणित का रिजल्ट, बोर्ड बदलने वाले स्कूलों के लिए अलग से बनेगी नियमावली

सीबीएसई: एफएक्यूज के माध्यम से बना सकते हैं गणित का रिजल्ट, बोर्ड बदलने वाले स्कूलों के लिए अलग से बनेगी नियमावली
UP City News | Jun 11, 2021 11:54 AM IST

नई दिल्ली: सीबीएसई की 10वीं की परीक्षा रद्द होने के बाद बोर्ड ने स्कूलों को रिजल्ट तैयार करने के निर्देश दिए हैं. कई स्कूलों को 10वीं के बेसिक गणित व स्टैंडर्ड गणित के परिणाम तैयार करने में परेशानी हो रही है. हालांकि, बेसिक व स्टैंडर्ड गणित को वर्ष 2020 से लागू किया गया है, लेकिन रिजल्ट तैयार करने के लिए स्कूलों को 2019-20 के पहले के भी रेफरेंस वर्ष मिले हैं. सीबीएसई ने इस परेशानी को देखते हुए स्कूलों के लिए कुछ एफएक्यूज (लगातार पूछे जाने वाले प्रश्न) जारी किए हैं.

वहीं, कई स्कूलों की उलझन यह भी है कि उन्होंने बोर्ड बदला है. इस साल उनका 10वीं का पहला बैच है. ऐसे में बोर्ड ने स्पष्ट किया है कि बोर्ड बदलने वाले स्कूलों के लिए अलग से नियमावली जारी की जाएगी. सीबीएसई की ओर से जारी एफएक्यूज में बोर्ड ने गणित के रिजल्ट तैयार करने के हल सुझाए हैं. कहा गया है कि 2019-20 को बेसिक गणित के लिए बेस ईयर के रूप में लिया जाएगा. जिन स्कूलों का रेफरेंस ईयर 2019-20 से पहले का है उनके लिए बोर्ड ने दो विकल्प सुझाए हैं. पहला 2019-20 में बेसिक गणित के औसत के आधार पर 2020-21 के रिजल्ट के लिए बेसिक गणित के अंक की गणना होगी. वहीं, स्टैंडर्ड गणित के अंक इस तरह से दिए जाएंगे कि 2020-21 के बेसिक व स्टैंडर्ड गणित का समग्र औसत रेफरेंस ईयर के गणित के कुल औसत के समान हो. दूसरा विकल्प है कि 2020-21 के बेसिक व स्टैंडर्ड गणित के समग्र औसत अंकों को एक साथ लिया जाएगा, जो कि रेफरेंस ईयर के औसत तक हो.

पुराने बोर्ड के औसत परिणाम का भी ले सकते हैं सहारा
सीबीएसई का कहना है कि विद्यार्थियों की संख्या के आधार पर औसत निकालना होगा. स्कूलों को यह ध्यान देना होगा कि रेफरेंस ईयर के औसत से 2020-21 का औसत अधिक नहीं होना चाहिए. स्कूलों ने बोर्ड से पूछा है कि यदि कोई स्कूल किसी अन्य स्टेट बोर्ड से अलग होकर सीबीएसई बोर्ड में आया हो और इस साल उनका 10वीं का पहला बैच हो तब स्कूलों को कैसे रिजल्ट निकालना है? इस पर बोर्ड ने स्पष्ट किया है कि स्कूल पुराने बोर्ड के बीते साल के रिजल्ट औसत के माध्यम से तैयार किया जा सकता है. इसके लिए अलग से नियमावली जारी की जाएगी. ऐसे स्कूलों को इस नियमावली के अनुसार ही कार्य करने के निर्देश दिए जाएंगे. इससे पहले भी बोर्ड ने रिजल्ट तैयार करने में आ रही दिक्कतों को लेकर स्कूलों की शंकाओं का समाधान करने के लिए एफएक्यूज जारी किए थे.