सिटी न्यूज़

रिश्ते शर्मसार: छह साल से किशोरी के साथ हो रहा था दुष्कर्म, पिता—चाचा समेत 28 के खिलाफ मुकदमा दर्ज

रिश्ते शर्मसार: छह साल से किशोरी के साथ हो रहा था दुष्कर्म, पिता—चाचा समेत 28 के खिलाफ मुकदमा दर्ज
UP City News | Oct 13, 2021 06:25 PM IST

ललितपुर/झांसी. ललितपुर जिले से​ रिश्तों को शर्मसार करने वाली खबर सामने आई है. कोतवाली क्षेत्र अंतर्गत निवासी एक किशोरी के साथ छह साल से दुष्कर्म हो रहा था. किशोरी ने आरोप लगाया कि पहली बार उसके पिता ने उसके साथ दुष्कर्म किया और इसके बाद उसे होटलों में ले जाया गया. किशोरी ने अपने पिता समेत चाचा और शहर के कई संभ्रांत माने जाने वाले लोगों पर यह गंभीर आरोप लगाया है. मामले में किशोरी की तहरीर पर पुलिस ने सपा—बसपा जिलाध्यक्ष समेत 25 नामजद और तीन अन्य कुल 28 लोगों के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया है.

17 वर्षीय किशोरी ने पुलिस को बताया कि वह कक्षा छह में पढ़ती थी. उस समय उसके पिता उसे घुमाने के लिए ले गए. रास्ते में उन्होंने उसे गंदा वीडियो दिखाया और अगले दिन रात आठ बजे नए कपड़े दिलाए. इसके बाद वह उसे बाइक सिखाने की बात कहकर ग्राम महेशपुरा के खेतों में ले गए और उसके साथ दुष्कर्म किया. इसके बाद से ही उसे उसे होटल ले जाया गया. यहां उसके साथ एक युवक ने दुष्कर्म किया. इसके बाद से उससे लगातार अनैतिक कार्य कराए जाने लगे. किशोरी ने आरोप लगाया कि छह वर्षों तक अलग-अलग लोगों ने उसके साथ दुष्कर्म किया. इस दौरान उसे बेचने का भी प्रयास किया गया.

थक हारकर तीन दिन पहले किशोरी ने मां और भाई को अपने साथ कमरे में बंद कर किसी तरह फोन से पुलिस से शिकायत की. इसके बाद मंगलवार को एसपी ने खुद किशोरी के घर पहुंचकर कार्रवाई का आश्वासन दिया. पुलिस ने मामले में  किशोरी के पिता, चाचा, ताऊ के अलावा जिले के सपा व बसपा के नेताओं पर रिपोर्ट दर्ज कर ली है. कुल 28 लोगों पर मुकदमा लिखा गया है. इनमें से 25 नामजद हैं और किशोरी के परिवार के ही नौ लोग शामिल हैं.

इन लोगों पर दर्ज किया गया मुकदमा
सपा जिलाध्यक्ष तिलक यादव, राजू यादव, महेंद्र यादव, अरविंद यादव, प्रबोध तिवारी, सोनू समैया, राजेश जैन जोझिया, महेंद्र दुबे, नीरज तिवारी, महेंद्र सिंघई, बसपा जिलाध्यक्ष दीपक अहिरवार और कोमलकांत सिंघई समेत 28 लोगों के खिलाफ रिपोर्ट दर्ज कर ली।

इस मामले में जिला प्रशासन से निष्पक्ष जांच की मांग करता हूं. यदि कोई दोषी है तो उसे दंडित किया जाए, लेकिन झूठा न फंसाया जाए. यह मेरे खिलाफ षड्यंत्र है. यदि उनकी छवि और उनके परिवार को बर्बाद करने का प्रयास किया गया तो मैं आत्महत्या कर लूंगा. उस महिला का पति से विवाद है और उसने बहकावे में आकर यह सब किया है. -तिलक यादव, जिलाध्यक्ष समाजवादी पार्टी

मेरे खिलाफ लिखाया गया मुकदमा पूरी तरह से झूठा है. विरोधियों द्वारा षड्यंत्र किया गया है. उनका उस किशोरी अथवा उसके परिवार से दूर—दूर तक संबंध नहीं है. मामले की निष्पक्ष व स्वतंत्र एजेंसी के माध्यम से जांच होनी चाहिए।
-दीपक अहिरवार, जिलाध्यक्ष, बसपा