सिटी न्यूज़

झांसी: भारी बारिश का कहर, मलबे में दबे पिता पुत्र और पत्नी को ग्रामीणों ने रेस्क्यू कर निकाला बाहर

झांसी: भारी बारिश का कहर, मलबे में दबे पिता पुत्र और पत्नी को ग्रामीणों ने रेस्क्यू कर निकाला बाहर
UP City News | Sep 21, 2022 06:12 PM IST

झांसी. उत्तर प्रदेश के जनपद झांसी में भारी बारिश का घर देखने को मिला. जिसमें कच्चा मकान गिरने से बड़ा हादसा हो गया. मलबे में एक ही परिवार की तीन सदस्य दब गए. जिसमें पिता पुत्र और पत्नी की आवाज सुनकर ग्रामीणों ने रेस्क्यू अभियान चलाया और तीनों को मलबे से बाहर निकाला. झांसी में लगातार चार दिन से भारी बारिश हो रही है. गुरुवार रात 10:00 बजे बारिश से दो मंजिला मकान भरभरा कर गिर गया. मलबे में माता पिता और बेटा दब गए. उनकी चीखने की आवाज सुन ग्रामीणों ने बाहर निकाला.

हादसा सीपरी बाजार के न्यू प्रेमगंज में एसआईसी कॉलेज के पास हुआ. कॉलेज के सामने 35 साल से रह रहे राजाराम रायकवार (68) गुरुवार रात को ग्राउंड फ्लोर पर थे. उनका बेटा सुरेश (40) ऊपर कमरे में सो रहा था, जबकि पत्नी भगवती (65) घर के बाहर चबूतरे पर बैठी थी. रात करीब 10 बजे अचानक भरभराकर मकान गिर गया. तीनों मलबे के नीचे दब गए.

राजाराम के पड़ोसी बिलसन का मकान का आधा हिस्सा गिर गया. गनीमत रही कि हादसे के समय बिलसन और उसका भाई ऐलक घर पर नहीं थे. वहीं, पड़ोसी कपूरी, उनका बेटा उत्तम, बेटी राधा और सास घबरा गई. चारों ने पीछे वाले रास्ते से भागकर अपने आपको बचाया. काफी देर तक दहशत का माहौल बना रहा. सूचना पर डीएम रविंद्र कुमार, एसएसपी शिवहरी मीना समेत अन्य अधिकारी मौके पर पहुंच गए.

बिना देर किए जेसीबी से मलबा हटाने का काम शुरू किया गया. पहले सुरेश को निकालकर मेडिकल कॉलेज भेजा गया. कुछ देर बाद पिता को भी बाहर निकाल लिया गया. तीनों को निकालने में करीब डेढ़ घंटे का समय लग गया. मेडिकल कॉलेज में सुरेश को मृत घोषित कर दिया गया. प्रत्यक्षदर्शियों ने बताया कि मकान गिरने के बाद आसपास के लोग मौके पर पहुंच गए. भगवती दिख रही थी, लेकिन उनके पैर मलबे में दबा था. लोगों ने मलबा हटाकर भगवती को निकाल लिया. जबकि पिता-पुत्र नजर नहीं आ रहे थे. सूचना पर पुलिस और प्रशासनिक अधिकारी मौके पर पहुंच गए.

राजाराम का मकान करीब 35 साल पुराना था. पहले उसने एक मंजिल मकान बनाया था. कुछ समय बाद उसके ऊपर एक और मंजिल बना लिया था. पहले सूचना थी कि मकान में 6 लोग थे. जब मलबे से बाहर निकाले गए दंपती से पूछा गया तो पता चला कि 3 ही लोग थे.