सिटी न्यूज़

क्या है अग्निपथ योजना, क्यों हो रहा विरोध, इन 6 बिंदुओं में समझें

क्या है अग्निपथ योजना, क्यों हो रहा विरोध, इन 6 बिंदुओं में समझें
UP City News | Jun 20, 2022 09:59 AM IST

नई दिल्ली. केंद्र सरकार ने सेना में भर्ती के लिए अग्निपथ योजना की घोषणा की है. इस योजना के अंतर्गत थल सेना, वायुसेना और नौसेना में अग्निवीरों की भर्ती की जाएगी. हालांकि जब से इस योजना का ऐलान हुआ है देशभर में युवा आक्रोशित हैं और इसका विरोध कर रहे हैं. आएये जानते हैं 6 बिंदुओं में, क्या है ये योजना और क्यों हो रहा है इसका विरोध...

1-इस योजना के अंतर्गत सेना में भर्ती होने वाले अग्निवीरों को 30000 रुपया वेतन, 44 लाख का बीमा, 4 साल की नौकरी एवं अन्य सुविधाएं प्रदान की जाएंगी. इस स्कीम का ऐलान तब हुआ जब सेना में कोविड के कारण दो साल तक भर्ती नहीं हुई. अग्निपथ स्कीम से सेना की औसत आयु 32 से घटकर 26 हो जाएगी.

2-अग्निपथ भर्ती योजना के अंतर्गत इच्छुक अभ्यर्थी रक्षा मंत्रालय की ऑफिशियल वेबसाइट mod.gov.in के माध्यम से आवेदन प्रस्तुत कर सकते हैं. इस स्कीम से सेना में 1 लाख पद भरे जाने की तैयारी है.

3- इस योजना के तहत सैनिकों की भर्ती केवल 4 साल के लिए की जाएगी. 4 साल के अंत में लगभग 75 फीसदी सैनिकों को ड्यूटी से मुक्त कर दिया जाएगा और उन्हें आगे के रोजगार के लिए अवसरों के लिए सशस्त्र बलों से सहायता मिलेगी. सेना से बाहर होते वक्त उन्हें 11.71 लाख रुपये और दिए जाएंगे.

4-विरोध की वजह- युवा इसकी कम अवधि और पेंशन आदि की व्यवस्था ना होने से नाराज हैं. देशभर में युवाओं में इसको लेकर आक्रोश नजर आ रहा है. कई राज्यों में युवाओं ने इसके विरोध में प्रदर्शन किया है. युवा पुरानी अधूरी भर्तियों को खत्म किए जाने से भी नाराज हैं.

5-अग्निपथ सेना के अन्य भर्ती सिस्टम से कितना अलग- आइये जानते हैं कि सेना में भर्ती की पूर्व की व्यवस्थाओं से ये किस तरह अलग है. अगर में सेना में भर्ती की व्यवस्था की बात करें तो अग्निवीर की नई भर्ती व्यवस्था को मिलाकर कुल तीन भर्ती सिस्टम इस वक्त सेना में हैं. इसमें से पहला है स्थायी कमीशन दूसरा है शार्ट सर्विस कमीशन और तीसरा जो अभी-अभी लागू हुआ है अग्निपथ सिस्टम. यहां स्थाई कमीशन का अर्थ रिटायरमेंट तक सेना में करियर से है. शॉर्ट सर्विस कमीशन के तहत सेना में 10 साल तक सर्विस की व्यवस्था है. इसमें 4 साल की अवधि और बढ़ा सकने का भी प्रावधान है. वहीं अग्निपथ सिस्टम के तहत भर्ती होने वाले सिर्फ 4 साल तक ही नौकरी कर सकेंगे.

6-अग्निपथ स्कीम के भारी विरोध के बाद सरकार ने इसे लेकर कुछ छूट दीं हैं. गृह मंत्रालय ने सेंट्रल आर्म पैरामिलिट्री फोर्स (सीएपीएफ) और असम राइफल्स में अग्निवीरों के लिए 4 साल बाद भर्ती में 10 फीसदी कोटा देने का ऐलान किया है. सरकार ने नई व्यवस्था में और बदलाव लाते हुए अग्निपथ सिस्टम में शुरुआती सालों के लिए भर्ती के लिए अधिकतम सीमा 21 से बढ़ाकर 23 साल कर दी है लेकिन नाराजगी अभी बनी हुई है.