सिटी न्यूज़

SBI ने होम लोन किया सस्ता, ब्याज दरों को घटाकर कर घर खरीदने वालों में जगाई आस

SBI ने होम लोन किया सस्ता, ब्याज दरों को घटाकर कर घर खरीदने वालों में जगाई आस
UP City News | May 03, 2021 08:45 AM IST

नई दिल्ली. भारतीय स्टेट बैंक (एसबीआई) ने होम लोन की ब्याज दरों को घटा दिया है. अब, ग्राहक 30 लाख रुपये तक के ऋण के लिए 6.7% प्रति वर्ष से शुरू होने वाली ब्याज दर पर होम लोन ले सकते हैं. 30 लाख रुपये से 75 लाख रुपये तक के ऋण के लिए ब्याज दर 6.95% तय की गई है. बैंक ने 75 लाख से अधिक के होम लोन के लिए आवेदन करने वालों को 7.05% की ब्याज दर मिलेगी. होम लोन कि नई दरें 1 मई से लागू होंगी.

इसके अलावा, महिला उधारकर्ता होम लोन की ब्याज दरों पर 5 बीपीएस की विशेष रियायत के लिए पात्र हैं. बैंक द्वारा उल्लिखित योनो ऐप (Yono app) के जरिए होम लोन लेने वाले व्यक्तियों को 5 बीपीएस की अतिरिक्त ब्याज रियायत मिलेगी. भारतीय स्टेट बैंक ने कहा कि इस कदम का उद्देश्य भारी होम लोन ग्राहकों की सामर्थ्य में सुधार करना है.

“एसबीआई, होम फाइनेंस में मार्केट लीडर होने के नाते, होम लोन मार्केट में कंज्यूमर सेंटीमेंट्स को बढ़ाने में मालिकाना हक रखता है. वर्तमान में होम लोन की ब्याज दर की पेशकश के साथ उपभोक्ता की सामर्थ्य काफी बढ़ जाती है, जो ईएमआई (EMI) की मात्रा को काफी हद तक कम कर देता है. उन्होंने कहा, "मुझे यकीन है कि ये उपाय रियल एस्टेट उद्योग को भी गति प्रदान करेंगे."

“एसबीआई द्वारा घोषित नवीनतम कटौती के साथ, होम लोन की दरें एक बार फिर ऐतिहासिक काम क‍िया है. ध्रुव अग्रवाल, ग्रुप के मुख्य कार्यकारी अधिकारी, हाउसिंग.कॉम, Makaan.com और PropTiger.com ने कहा कि कहने की जरूरत नहीं है कि यह कदम लोगों को, विशेषकर अपने सपनों का घर लेने और बुक करने वालों के मुफीद साब‍ित होगा.

अप्रैल में, SBI ने अपनी होम लोन दरों को संशोधित किया था, जो 6.95% से शुरू हुई थी. बैंक के होम लोन पोर्टफोलियो ने 5 लाख करोड़ रुपये का मील का पत्थर पार कर लिया है. यह देश का सबसे बड़ा बंधक ऋणदाता है. SBI ने होम लोन में 34% से अधिक बाजार हिस्सेदारी की आज्ञा दी है.

“एसबीआई देश का सबसे बड़ा ऋणदाता है और कई मायनों में ट्रेंड सेटर भी है, अन्य बैंकों ने भी इसका अनुसरण करना शुरू कर दिया है और संभावना है कि आने वाले दिनों में कई और एचएफसी भी ऐसा ही करेंगे, जो सरकार के अनुरूप है. अग्रवाल ने उल्लेख किया कि रियल एस्टेट सेक्टर को बढ़ावा देने के लिए आरबीआई की रणनीति है.