सिटी न्यूज़

Milkha singh: हमेशा दौड़ जीतने वाले मिल्खा सिंह हारे जिंदगी की आखिरी रेस, अधूरी रह गई उनकी ये ख्वाहिश

Milkha singh: हमेशा दौड़ जीतने वाले मिल्खा सिंह हारे जिंदगी की आखिरी रेस, अधूरी रह गई उनकी ये ख्वाहिश
UP City News | Jun 19, 2021 01:47 AM IST

नई दिल्ली. फ्लाइंग सिख के नाम से मशहूर रफ्तार का बादशाह मिल्खा सिंह अब इस दुनिया में नहीं रहे. वह 9 मई से कोरोना वायरस संक्रमण से जंग लड़ रहे थे. लेकिन इस रेस में कोरोना ने मिल्का सिंह को हराकर हमेशा से हमसे जुदा कर दिया. उनकी मौत की खबर के बाद से खेल जगत नहीं बल्कि पूरे हिंदुस्तान में शोक की लहर दौड़ गई. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने मिल्खा सिंह के निधन पर गहरा शोक जताया है.
वर्ष 1958 टोक्यो एशियाई खेलों में 200 मीटर और 400 मीटर में स्वर्ण पदक जीतने वाले मिल्खा सिंह का शुक्रवार रात निधन हो गया. वह 92 साल के थे. उनके निधन से देश मे शोक की लहर दौड़ गई. वह फ्लाइंग सिख के नाम से मशहूर थे. वह 9 मई से कोरोना वायरस संक्रमण से जंग लड़ रहे थे. उन्हें 3 जून को इलाज के लिए पोस्ट ग्रैजुएट इंस्टीट्यूट ऑफ मेडिकल एजुकेशन एंड रिसर्च में भर्ती कराया गया था. देर रात उनके निधन की जानकारी पर सोशल मीडिया पर मिल्खा सिंह को श्रधांजलि दी जा रही है. 13 जून को ही उनकी पत्नी और पूर्व वॉलीबाल नेशनल कैप्टन, निर्मल कौर का निधन हो गया था. पत्नी की मौत के 5 दिन बाद अब मिल्खा सिंह भी इस दुनिया को छोड़कर चले गए.
मिल्खा सिंह ने 1958 टोक्यो एशियाई खेलों में 200 मीटर और 400 मीटर में स्वर्ण पदक जीता था. मिल्खा सिंह 1962 जकार्ता एशियाई खेलों में भी 400 मीटर और चार गुणा 400 मीटर रिले में स्वर्ण पदक अपने नाम कर चुके हैं. उन्हें साल 1959 में पद्मश्री से सम्मानित किया गया था. मिल्खा सिंह 1958 में पहले ऐसे भारतीय एथलीट बने जिन्होंने कार्डिफ कॉमनवेल्थ गेम में स्वर्ण पदक जीता था. मिल्खा सिंह ने 400 मीटर रेस में साउथ अफ्रीका के मैलकम स्पेंस को पछाड़ते हुए 46.6 सेकंड में दौड़ पूरी की थी. कॉमनवेल्थ गेम्स में गोल्ड का यह रिकॉर्ड उनके साथ 50 सालों से अधिक रहा जिसे 2010 में दिल्ली कॉमनवेल्थ गेम में कृष्णा पूनिया ने डिस्कस थ्रो में गोल्ड जीतकर तोड़ा था. मिल्खा सिंह के जाने से देश मे शोक की लहर है.
और अधूरी रह गई ये ख्वाहिश...
फ्लाइंग सिख मिल्खा सिंह की ख्वाहिश थी कि उनके जीवित रहते ही ओलंपिक में देश के एथलीट पदक जीतें. आगरा में आए मिल्खा सिंह ने कहा था कि 2024 में होने वाले ओलंपिक में देश के एथलीट पदक जीत सकते हैं. इसके लिए जोरदार तैयारी करनी होगी. मेरी ख्वाहिश है कि मेरे जीते जी इस रिकार्ड को कोई तोड़ेगा तो मुझे बेहद खुशी होगी.