सिटी न्यूज़

1947 की आजादी को भीख में मिली आजादी बताने वाली कंगना को कहना पड़ा- I am Sorry, जानिए क्यों

1947 की आजादी को भीख में मिली आजादी बताने वाली कंगना को कहना पड़ा- I am Sorry, जानिए क्यों
UP City News | Dec 04, 2021 08:09 AM IST

अमृतसर. 1947 में मिली आजादी को भीख में मिली आजादी बताने वाली अभिनेत्री कंगना रनौत को देशभर में लोगों के गुस्से का सामना करना पड़ रहा है. उन्हें लेकर देश में उबाल है. जहां भी वो जाती हैं उन्हें विरोध का सामना करना पड़ता है. शुक्रवार को पंजाब में भारी विरोध का सामना करना पड़ा. अभिनेत्री कंगना रनौत के काफिले को पंजाब में नाराज भीड़ ने घेर लिया. किसानों को खालिस्तानी आतंकी कहने से नाराज भीड़ ने उनसे माफी मांगने को कहा. भीड़ के गुस्से को देखते हुए कंगना कार से बाहर निकलीं और माफी भी मांगी. इसके बाद उन्हें जाने दिया गया.
पंजाब के रूपनगर जिले में कीरतपुर साहिब में कंगना के काफिले को कुछ लोगों ने रोक लिया. वह हिमाचल प्रदेश से लौट रही थीं, जब यह घटना हुई. इंस्टाग्राम पर वीडियो संदेश में अभिनेत्री ने कहा, मैंने जैसे ही पंजाब में प्रवेश किया, एक भीड़ ने मेरी कार पर हमला किया. वे खुद को किसान बता रहे थे.
पुलिस ने कहा कि रूपनगर में जब रनौत की कार कीरतपुर साहिब के पास बुंगा साहिब गुरुद्वारे पर पहुंची तब कुछ महिलाएं और पुरुष एक किसान संगठन का झंडा लिए आए. कंगना रनौत की कार को आधे घंटे तक रोका.
बोले-किसान विरोधी बयानों के लिए माफी मांगें. बता दें कि कंगना ने किसान आंदोलन और देश को मिली आजादी को भीख में मिली आजादी बताने के बाद से ही उन्हें विरोध का सामना करना पड़ रहा है.
दिल्ली सिख गुरुद्वारा प्रबंधक समिति ने तो इंस्टाग्राम पर सिख समुदाय के खिलाफ कथित रूप से आपत्तिजनक टिप्पणी करने को लेकर कंगना के खिलाफ पुलिस में शिकायत तक दर्ज करायी है.गुरुद्वारा प्रबंधक समिति का कहना है कि सोशल मीडिया पर हाल में किए गए अपने पोस्ट में कंगन ने ‘‘जानबूझकर'' किसानों के प्रदर्शन को ‘खालिस्तानी आंदोलन' बताया. बयान में कहा गया है कि अभिनेत्री ने सिख समुदाय के खिलाफ आपत्तिजनक और अपमानजनक' भाषा का उपयोग किया.