सिटी न्यूज़

16 साल से लापता बर्खास्त आईपीएस अफसर ज्योति एस के विरुद्ध सीबीआई कोर्ट ने जारी किया नोटिस

16 साल से लापता बर्खास्त आईपीएस अफसर ज्योति एस के विरुद्ध सीबीआई कोर्ट ने जारी किया नोटिस
UP City News | Jul 21, 2021 06:27 PM IST

गाजियाबाद. गाजियाबाद में 25 साल पहले हुई फर्जी मुठभेड़ में बर्खास्त पूर्व आईपीएस अधिकारी ज्योति एस बेलुर के खिलाफ सीबीआई कोर्ट ने कुर्की का नोटिस जारी किया है. पिछले दो दशक से सीबीआई की वांछित ज्योति इन दिनों लंदन की एक यूनिवर्सिटी में पुलिसिंग का पाठ पढ़ा रही हैं. इंटरपोल के जरिए रेड कॉर्नर नोटिस जारी करने के लिए सीबीआई कोर्ट एक बार फिर विदेश मंत्रालय से पत्राचार करने जा रही है.

मोदीनगर में हुई थी 4 युवकों की हत्या
1993 बैच की आईपीएस अधिकारी ज्योति एस बेलुर 1996 में गाजियाबाद के मोदीनगर में अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक थीं. आठ नवंबर 1996 को मोदीनगर इलाके में चार युवकों जलालुद्दीन, जसबीर, अशोक और प्रवेश की गोली मारकर हत्या कर दी गई थी. आरोप लगे थे कि पुलिस ने आउट ऑफ टर्न प्रमोशन के चक्कर में चारों की हत्या की है. सीबीआई ने सात अप्रैल 1997 को इस केस की जांच शुरू की.

ज्योति की रिवॉल्वर से चली थी एक गोली
सीबीआई ने 10 सितंबर 2001 को अपने आरोप पत्र में दावा किया था कि युवक जसबीर सिंह को लगी गोलियों में से एक गोली तत्कालीन एएसपी ज्योति एस बेलुर की पिस्तौल से चली थी. हालांकि आरोप पत्र में ज्योति का नाम नहीं लिया गया और कहा गया कि घटना वाले दिन वह गाजियाबाद में मौजूद नहीं थीं. चूंकि पिस्तौल ज्योति के नाम पर आवंटित थी और फोरेंसिक जांच में इसी पिस्तौल से गोली चलने की पुष्टि हुई. इसलिए गाजियाबाद की सीबीआई कोर्ट ने उन्हें आरोपी बनाते हुए 14 सितंबर 2007 को वारंट जारी किए.

2005 से लापता हैं ज्योति
ज्योति का मूल आईपीएस कैडर उत्तराखंड था. 2001 में उन्हें अपने मूल कैडर में वापस भेज दिया गया, लेकिन वह अपनी ड्यूटी पर एक भी बार मौजूद नहीं हुई. वह स्टडी लीव पर विदेश चली गई और फिर लौटकर नहीं आई. स्टडी लीव समाप्त होने के बाद एक अक्टूबर 2005 से वह लापता हैं. गृह मंत्रालय 23 फरवरी 2017 में ज्योति को भारतीय पुलिस सेवाओं से बर्खास्त कर चुका है.

सीबीआई कोर्ट ने फरवरी 2016 में चारों युवकों की हत्या के जुर्म में यूपी के चार पुलिसकर्मियों तत्कालीन भोजपुर एचएसओ लाल सिंह, एसआई जोगेंद्र सिंह, कांस्टेबल सुभास व सूर्यभान को उम्रकैद की सजा सुनाई थी. इधर सीबीआई कोर्ट ज्योति एस बेलुर को अब तक 16 बार नोटिस जारी कर चुकी है, लेकिन वह एक भी बार पेश नहीं हुई. दो दिन पहले सीबीआई कोर्ट ने ज्योति का कुर्की नोटिस जारी कर दिया.