सिटी न्यूज़

गृह मंत्री अमित शाह से मिली अनुप्रिया पटेल, मिल सकती है मोदी मंत्रिमंडल में जगह

गृह मंत्री अमित शाह से मिली अनुप्रिया पटेल, मिल सकती है मोदी मंत्रिमंडल में जगह
UP City News | Jun 10, 2021 09:44 PM IST

नई दिल्ली. गुरुवार को यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की गृह मंत्री अमित शाह से मुलाकात के ठीक बाद गृह मंत्री अमित शाह के घर पर अपना दल एस की राष्ट्रीय अध्यक्ष अनुप्रिया पटेल भी पहुंची थी. जहां उन्होंने गृह मंत्री अमित शाह से मुलाकात की. अनुप्रिया पटेल की इस मुलाकात के बाद भी राजनीतिक गलियारों में उनके बीजेपी सरकार में उनकी होने वाले भूमिका को लेकर चर्चा तेज हो गई है. माना जा रहा है कि पूर्व केंद्रीय मंत्री और सांसद अनुप्रिया पटेल को मोदी कैबिनेट में जगह दी जा सकती है.

गौरतलब है कि अनुप्रिया पटेल पहले भी कई बार इस बात की चर्चा कर चुकी है कि प्रदेश सरकार के कैबिनेट का विस्तार जल्द से जल्द किया जाए और उनके कोटे से कम से कम दो लोगों को मंत्री बनाया जाए. गौरतलब है कि वर्तमान में अपना दल एस के कोटे से यूपी कैबिनेट में जयकिशन जैकी राज्य मंत्री हैं. वहीं उन्हें भी मोदी कैबिनेट में जगह दी जा सकती है.

आपको बता दें कि एनडीए की सहयोगी पार्टी अपना दल एस की राष्ट्रीय अध्यक्ष अनुप्रिया पटेल पिछले कुछ दिनों से गठबंधन से नाराज चल रही थी. उन्होंने कई बार खुले तौर पर अपनी नाराजगी जताई है, जिसके बाद से बीजेपी अपने नाराज साथियों को मनाने की कवायद में जुटी हुई है. इसी बीच अनुप्रिया पटेल से भी अमित शाह की मुलाकात प्रदेश सरकार में बड़े बदलाव के संकेत दे रही है. माना जा रहा है कि अनुप्रिया पटेल को यूपी कैबिनेट में जगह देकर उनकी नाराजगी को दूर करने की कोशिश की जाएगी.

गौरतलब है कि 2017 में बीजेपी की भारी जीत के बाद से कई सहयोगी रूठ कर गठबंधन से किनारा कर चुके हैं. उनमें से सबसे बड़ा नाम ओमप्रकाश राजभर है, जो नाराज हो कर चले गए थे. सूत्रों के अनुसार उन्हें भी मनाने की कोशिश शुरू की जा चुकी है. बता दें कि ओमप्रकाश राजभर का प्रदेश के राजभर समुदाय में बड़ा प्रभाव माना जाता है. जिसके कारण उन्हें एक बार फिर से गठबंधन में वापस लाने की कोशिश की जाएगी. हाल ही में संपन्न हुए पंचायत चुनावों में बीजेपी का प्रदर्शन ठीक नहीं रहा था. वहीं ओमप्रकाश राजभर की पार्टी ने पंचायत चुनाव में अच्छा प्रदर्शन किया था. इसके साथ ही अनुप्रिया पटेल ने भी पंचायत चुनावों में गठबंधन से हटकर लड़ा था.