सिटी न्यूज़

एम्‍स ने शोध में पाया योग को इस बीमारी में कारगर

एम्‍स ने शोध में पाया योग को इस बीमारी में कारगर
UP City News | Jun 21, 2022 10:31 AM IST

नई दिल्ली: संपूर्ण विश्व 21 जून को अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस (International Yoga Day) मना रहा है योग को लेकर भारत में प्राचीन काल से ही एक समृद्ध परंपरा रही है और इसको एक चिकित्सा पद्धति के रूप में भी देखा गया है. योग के विभिन्न फायदों को देखते हुए विश्व भर में लोग अब योग (Yoga) को अपने जीवन में अपना रहे हैं अब मेडिकल साइंस भी योग चिकित्सा के महत्त्व को मान रहा है दिल्ली के ऑल इंडिया इंस्टीट्यूट ऑफ मेडिकल साइंसेज (AIIMS) की ओर से योग निद्रा (Yog Nidra) को लेकर एक शोध किया गया जिसमे योग मित्र को लोगों के लिए अत्यधिक फायदेमंद पाया गया है इस शोध में कुल 60 मरीजों पर 4 साल तक परीक्षण किया गया इस रैंडमाइज्ड कंट्रोल्ड ट्रायल में योग निद्रा को वैज्ञानिक रूप से बेहद प्रभावित पाया गया.

ये रिसर्च स्टडी द नेशनल मेडिकल जनरल ऑफ इंडिया (The National Medical Journal Of India) में प्रकाशित हुई. इस रिसर्च की लेखक डॉ. करुणा दत्‍ता (Dr. Karuna Dutta) और एम्‍स के सेंटर ऑफ एक्‍सीलेंस की प्रोफेसर डॉ. मंजरी त्रिपाठी  (Prof. Dr. Manjari Tripathi) के अनुसार, हैं अनिद्रा यानी क्रॉनिक इन्‍सोम्निया (Chronic Insomnia) की बीमारी झेल रहे मरीजों के लिए योग निद्रा काफी फायदेमंद पाया गया है. भारत में प्राचीन काल से ही साधु-संत नींद के लिए योग निद्रा करते रहे हैं. लेकिन अनिद्रा की बीमारी में यह कितना असरदार है इस विषय पर अभी तक कोई खास वैज्ञानिक स्‍टडी नहीं की गई थी. अब एम्‍स (AIIMS) में की गई यह स्टडी इस बात की पुष्टि करती है.

जानिए क्या है योग निद्रा ?

विशेषज्ञों के अनुसार, भारत की संस्‍कृति में पहले से ही ऐसी विधियां और चिकित्‍सा पद्धतियां मौजूद हैं जो विभिन्न शारीरिक समस्याओं और रोगों को दूर करने में कारगर साबित होते हैं. योग इन्‍हीं में से एक पद्धति है. योग में ही एक विधि है योग निद्रा. यह योग की एक प्रक्रिया या विधि है जो सुबह के समय खाली पेट कुछ समय के लिए रोजाना करनी होती है. इस के कुल पांच स्‍टेप होते हैं. योगासनों में आने वाला शवासन इसी का हिस्‍सा है.