सिटी न्यूज़

SSP Gorakhpur ने 10 थानेदारों का किया तबादला, 3 को मिली नई जिम्मेदारी

SSP Gorakhpur ने 10 थानेदारों का किया तबादला, 3 को मिली नई जिम्मेदारी
UP City News | Nov 23, 2022 08:14 AM IST

गोरखपुर. उत्तर प्रदेश के गोरखपुर (Gorakhpur News) में SSP डॉ. गौरव ग्रोवर ने 10 थानेदारों को तबादला किया है. इनमें तीन लापरवाह थानेदारों से थानों की कमान छिन ली गई. जबकि तीन नए पर भरोसा जताते हुए उन्हें थानों की कमान सौंपी गई है. SSP डॉ. गौरव ग्रोवर ने इंस्पेक्टर शाहपुर रणधीर मिश्रा को कोतवाली थाने की कमान सौंप दी है. जबकि, कोतवाली इंस्पेक्टर अजय कुमार ​मौर्या के खिलाफ लगातार मिल रही शिकायतों के बाद उन्हें लोक शिकायत प्रकोष्ठ से अटैच कर दिया गया.

बड़हलगंज इंस्पेक्टर मधूप मिश्रा को शाहपुर थाने, बेलीपार इंस्पेक्टर संदीप यादव को बांसगांव भेजा गया है. वहीं, अब तक बास गांव इंस्पेक्टर रहे सत्यप्रकाश सिंह को अपराध शाखा भेज दिया गया. इसके अलावा इंस्पेक्टर गोला जय नारायण शुक्ला को इंस्पेक्टर बड़हलगंज, इंस्पेक्टर खजनी इकरार अहमद को इंस्पेक्टर बेलीपार थाने की कमान सौंपी गई है. जबकि, इंस्पेक्टर पीपीगंज शिव शंकर चौबे को एंटी ह्यूमन ट्रैफिकिंग सेल भेज दिया गया.

वहीं, प्रभारी सेल सर्विलांस के सब इंस्पेक्टर राजेंद्र सिंह को राजघाट थाने की कमान सौंपी गई है. साथ ही राजघाट थानाध्यक्ष रहे संजय मिश्रा को खजनी का नया थानाध्यक्ष बनाया गया है. SSI बड़हलगंज अश्वनी तिवारी को गोला थाने की कमान सौंपी गई है. सिकरीगंज के थानेदार दीपक सिंह को पीपीगंज, पिपराइच थाने के SSI राजकुमार सिंह को सिकरीगंज थाने की कमान दे दी गई.

वहीं, गोरखपुर की चर्चित गालीबाज महिला दरोगा एयरफोर्स चौकी इंचार्ज सुनीता सिंह पर मेहरबानी अब भी जारी है. बीते 10 दिन पहले व्यापारियों को सरे आम गाली देने के वीडियो की जांच तो सीओ कैंट को सौंपी गई, मगर, अब तक इस मामले की जांच पूरी नहीं कराई जा सकी. इसके अलावा अभी दो दिन पहले भी महिला दरोगा का रेप पीड़िता से बयान कराने के नाम पर 20 हजार रुपए के घूस लेने का मामला भी सामने आ चुका है. बावजूद इसके पुलिस अधिकारियों ने इन दोनों मामलों में चुप्पी साध रखी है.

वहीं, रामगढ़ताल इलाके के रेस्टोरेंट में मारपीट और जान से मारने की कोशिश वाले आरोपियों ने घटना से दो दिन पहले फर्जी केस दर्ज कराया था. एक केस गुलरिहा में दर्ज हुआ था तो दूसरा रामगढ़ताल थाने में, लेकिन गुलरिहा में दो पुलिस कर्मियों को दोषी मानते हुए सस्पेंड कर दिया गया. जबकि रामगढ़ताल थाने को बचाते हुए चुपके से अधिकारियों ने बिना कार्रवाई मुकदमा ही स्पंज करा दिया.

इस ट्रांसफर के दौरान गोला थाने पर तैनात इंस्पेक्टर जय नारायण शुक्ला बेहद भावुक नजर आए. उनका ट्रांसफर गोला से बड़हलगंज थाने पर किया गया है. मंगलवार को इंस्पेक्टर के तबादले की खबर मिलते ही उन्हें विदाई देने काफी अधिक संख्या में स्थानीय लोग थाने पर पहुंच गए, और उन्हें माला पहनाकर उनकी विदाई की. यह सब देख इंस्पेक्टर भावुक हो गए और उनकी आंखें छलक उठी. हाथ जोड़कर लोगों से कहने लगे, जो भी गलती हुई हो उसके लिए सभी लोग माफ करिएगा, मैं आपका ही और आपके ही बीच का हूंं.

एचआईवी पॉजिटिव प्रसूता को मेडिकल कॉलेज के स्टॉफ का छूने से इनकार, 6 घंटे तक तड़पती रही, बच्चे की मौत