सिटी न्यूज़

टीईटी परीक्षा निरस्त होने से अभ्यर्थी हैं निराश, यहां पढ़ें क्या कहना है अभ्यर्थियों का

टीईटी परीक्षा निरस्त होने से अभ्यर्थी हैं निराश, यहां पढ़ें क्या कहना है अभ्यर्थियों का
UP City News | Nov 30, 2021 04:49 PM IST

गोरखपुर. नकल माफियाओं की करतूत का खामियाजा मेधावी छात्र-छात्राओं को भुगतना पड़ रहा है. शिक्षक बनने का सपना संजोए कई साल से मेहनत करने वाले परीक्षार्थियों के लिए तो परीक्षा निरस्‍त होना अभिशाप जैसा है. कई साल से तैयारी कर परिवार की उम्‍मीदों पर खरा उतरने का सपना देखने वाले इन भावी शिक्षकों के भविष्‍य पर नकल माफियाओं ने किस तरह ग्रहण लगा दिया है, ये गोरखपुर की मी‍नाक्षी की संघर्ष भरी जिंदगी को देखकर आप खुद अंदाजा लगा सकते हैं.

गोरखपुर के अलीनगर की रहने वाली मीनाक्षी गुप्‍ता बीमार पिता डीके गुप्‍ता और मां कुसुम गुप्‍ता का सपना शिक्षक बनकर पूरा करना चाहती हैं. बीमार पिता किसी तरह प्राइवेट जॉब कर घर का खर्च चलाते हैं. तंग और जर्जर हो चुके एक छोटे से कमरे में पूरी गृहस्‍थी सिमटी हुई है. स्‍नातक कर रहा छोटा भाई सार्थक गुप्‍ता घर खर्च में मदद के लिए दूसरे जिले में रहकर प्राइवेट काम करता है. बड़ी और होनहार बेटी होने के नाते माता-पिता की उम्‍मीदें भी मीनाक्षी के ऊपर टिकी हुई हैं.

साल 2017 में गोरखपुर पिपराइच के स्‍वर्ण जयंती महिला महाविद्यालय से डीएलएड करने वाली मीनाक्षी ने इसके पहले दीनदयाल उपाध्‍याय गोरखपुर विश्‍वविद्यालय से स्‍नातक की परीक्षा पास की है. इसके पहले उनकी प्रारम्भिक परीक्षा सरस्‍वती विद्या मंदिर आर्यनगर से हुई है. एक छोटे से कमरे में रहने वाले इस परिवार को तंगहाली की वजह से प्रधानमंत्री आवास भी नहीं मिल पाया है. जर्जर कमरा भी बरसात में इस कदर टपकता है कि रहना मुश्किल हो जाता है.

यूपी टीईटी परीक्षा स्‍थगित होने से निराश अभ्यर्थी, जानें निराश अभ्यर्थियों का क्या है रिएक्शन

मीनाक्षी बताती हैं कि वे डीएलएड करने के बाद से यूपी टीईटी और सी-टैट की तैयारी कर रही हैं. वे कहती हैं कि कल टीईटी की परीक्षा थी. वे पेपर दे रही थीं. 60 प्रश्‍नपत्र हल भी करने के बाद उन्‍हें पता चला कि परीक्षा को पेपर आउट होने की वजह से निरस्‍त कर दिया गया है. उन लोगों को काफी झटका लगा. क्‍योंकि काफी तैयारी की थी. उन्‍हें उम्‍मीद रही है कि यूपी टीईटी पास करने के बाद वे सुपर टेट की वैकेंसी में शामिल हो सकेंगी. उनका भविष्‍य संवर सकेगा. लेकिन यूपी टीईटी का पेपर रद्द होने से काफी निराशा हुई है.

2017 में उन्‍होंने डीएलएड किया है. दो-तीन साल से तैयारी कर रही हैं. पिछले साल पेपर हुआ नहीं. इस बार कैंसिल होना काफी गलत है. ये उन तैयारी करने वाले लोगों के लिए काफी बड़ा झटका है. उनकी उम्‍मीदों पर पानी फिर गया है. परीक्षा निरस्‍त होने में किसकी गलती है, ये वो नहीं जानती हैं, लेकिन जिसकी गलती हो उसे सख्‍त सजा मिलनी चाहिए. उन्होंने कहा कि सुपर टेट की वैकेंसी लाकर जल्‍दी से जल्‍दी भर्ती कर उन लोगों का भविष्‍य सेट हो सके.