सिटी न्यूज़

कल संसद के पास चलेगा "किसान संसद", जंतर मंतर पर करेंगे सरकार का विरोध

कल संसद के पास चलेगा "किसान संसद", जंतर मंतर पर करेंगे सरकार का विरोध
UP City News | Jul 21, 2021 10:49 PM IST

गाजियाबाद. मानसून सत्र में सरकार की मुसीबतें कम नहीं होने वाली हैं. कई महीनों से चल रहे किसान आंदोलन को अब तीव्र करने की योजना बन गई है. इसके लिए किसानों ने निर्णय लिया है कि मानसून सत्र के दौरान किसान संसद चलाई जाएगी. जंतर मंतर पर करीब दौ सौ किसान 22 जुलाई को सरकार के खिलाफ प्रदर्शन करेंगे. यह प्रदर्शन केंद्र सरकार के कार्यालयों के सामने किया जाएगा.

संसद के मॉनसूत्र सत्र के दौरान सदन में सरकार को कई मुद्दों पर विपक्षी दलों के विरोध का सामना करना पड़ रहा है. अब सरकार की मुसीबत संसद के बाहर भी बढ़ने वाली है. क्योंकि संयुक्त किसान मोर्चा ने 22 जुलाई से किसान संसद चलाने का निर्णय लिया है. करीब 200 किसान केंद्र सरकार के कार्यालयों के बाहर प्रदर्शन करेंगे. वहीं जंतर—मंतर पर भी केंद्र सरकार के खिलाफ प्रदर्शन किया जाएगा.

संयुक्त किसान मोर्चा का कहना है कि सरकार पूरी तरह किसान आंदोलन के लिए निरंकुश हो चुकी है. आंदोलन के दौरान हुई किसानों की मौत का आंकड़ा तक सरकार के पास नहीं है. किसान मोर्चा का कहना है कि किसान संसद में देश भर से किसान जुड़ने वाला है. जब तक सरकार किसानों के हित में कृषि कानूनों को वापस नहीं लेती. तब तक इस प्रकार के प्रदर्शन होते रहेंगे.

सिंघु बॉर्डर पर किसानों के प्रदर्शन की अगुवाई कर रहे संगठनों ने फैसला किया है कि गुरुवार से हर रोज 200 किसान जंतर-मंतर पर प्रदर्शन करेंगे. यह प्रक्रिया संसद के मॉनसून सत्र खत्म होने तक जारी रहेगी. हर दिन एक स्पीकर और डेप्युटी स्पीकर चुना जाएगा. पहले दो दिनों में एपीएमसी एक्ट पर चर्चा होगी. इसके बाद अन्य बिलों पर भी दो-दो दिन चर्चा के लिए दिए जाएंगे.

बता दें कि किसान प्रदर्शनकारियों ने मंगलवार को दिल्ली पुलिस से मुलाकात की थी. इस दौरान किसानों ने कहा था कि वे जंतर-मंतर पर शांतिपूर्वक प्रदर्शन कर संसद तक मार्च करेंगे. यह प्रदर्शन जंतर-मंतर पर हर दिन सुबह 10 से शाम 5 बजे तक चलेगा. बता दें कि 19 जुलाई से शुरू हुआ संसद का मॉनसून सत्र 13 अगस्त तक चलेगा.