सिटी न्यूज़

30 साल पुराने मामले में भाजपा विधायक खब्बू तिवारी को सजा, जानिए क्यों गए जेल

30 साल पुराने मामले में भाजपा विधायक खब्बू तिवारी को सजा, जानिए क्यों गए जेल
UP City News | Oct 18, 2021 10:17 PM IST

लखनऊ. अयोध्या के गोसाईगंज से भाजपा विधायक खब्बू तिवारी को एमपी-एमएलए कोर्ट ने पांच साल की सजा सुनाई है. विधायक ही नहीं उनके साथी रहे छात्रसंघ के पूर्व अध्यक्ष फूलचंद यादव व अखिल भारतीय चाणक्य परिषद के संरक्षक कृपाध्यान तिवारी को भी पांच साल की सजा सुनाई गई है. इसके बाद पुलिस कोर्ट से ही तीनों को कस्टडी में लेकर जेल ले गई.

30 साल पहले 1992 में साकेत महाविद्यालय में इंद्रप्रताप तिवारी उर्फ खब्बू ने एडमिशन के लिए फर्जी मार्कशीट का सहारा लिया था. इसी साल वह साकेत डिग्री कालेज के महामंत्री का चुनाव भी जीते थे. मामला संज्ञान में आने के बाद तत्कालीन प्राचार्य यदुवंश राम त्रिपाठी ने विश्वविद्यालय से जांच करवाई तो मामला फर्जी पाया गया.  इस पर प्राचार्य ने मुकदमा दर्ज करवाया था. इसके बाद से वह जमानत पर चल रहे थे. विधायक इंद्र प्रताप तिवारी उर्फ खब्बू के वकील पवन तिवारी ने बताया कि एमपी-एमएलए कोर्ट ने विधायक को पांच साल की सजा सुनाई है.  अब वह हाइकोर्ट में अपील करेंगे.

इन धाराओं में दर्ज हुआ था मुकदमा

वर्ष 1992 में तत्कालीन प्राचार्य यदुवंश राम त्रिपाठी ने इंद्रपताप उर्फ खब्बू तिवारी के खिलाफ 420, 468, 471 के तहत मुकदमा दर्ज कराया था. इसी मामले की सुनवाई करते हुए 30 साल बाद अपर जिला जज पूजा सिंह ने उन्हें पांच साल की सजा सुनाई है.

 

 

ब्राहम्मण नेता के रूप में पहचान

खब्बू तिवारी की प्रदेश भर में ब्राह्मण नेता के रूप में पहचान है. वह बाहूबली विधायक के रूप में जाने जाते हैं. वह इस बार भाजपा के टिकट से चुनाव लड़े थे और भारी मतों से जीते थे. इससे पहले वह सपा और बसपा से भी विधानसभा चुनाव लड़ चुके हैं.