सिटी न्यूज़

क्रांतिकारी ऊधम सिंह की अस्थियां लंदन से दिल्ली कैसे और कौन लेकर आया, जानिए यहां

क्रांतिकारी ऊधम सिंह की अस्थियां लंदन से दिल्ली कैसे और कौन लेकर आया, जानिए यहां
UP City News | Jul 21, 2021 11:34 AM IST

नई दिल्ली. इतिहास के पन्नों को पलटेंगे तो कई ऐसी रोचक और महत्वपूर्ण तथ्य सामने आएंगे जिन्हें पहले कभी नहीं जानते थे. 19 जुलाई को पूरी दुनिया में बेहद खास घटनाएं घटी जिन्हें जानना हर नागरिक के लिए जरूरी है. बहुत सी घटनाएं बेहद सुखुद रहीं तो बहुत से हादसों में पूरे विश्व को हिलाकर रख दिया. यूपी सिटी आपको 19 जुलाई के इतिहास को आपके सामने रखने जा रहा है. जो बेहद महत्वपूर्ण है.
आज ही के दिन भारतीय क्रांतिकारी ऊधम सिंह की अस्थियां 1974 में लंदन से नयी देहली लाई गईं थी. जलियांवाला बाग नरसंहार में करीब एक हजार लोगों पर अंग्रेज़ी सेना ने निर्दयता से गोली चला दी. इस घटना के गवाह उधम सिंह ने उसी समय बदला लेने का फ़ैसला कर लिया था. वो इस नरसंहार के लिए जनरल रेजिनाल्ड डायर को मारने के लिए भारत से लंदन तक गए और वहां उसे मारने के बाद ही दम लिया. माता-पिता और भाई की मृत्यु के बाद उधम सामाजिक कार्यों में लगे रहते थे. इसीलिए वह बैसाखी के दिन 13 अप्रैल, 1919 को वहां आए लोगों को पानी पिला रहे थे. तभी अचानक जलियांवाला बाग में अंग्रेज़ अफ़सर और कई सारे अन्य सैनिक आ गए. उन्होंंने वहां मौजूद दरवाज़े बंद किए और अंधाधुंध फ़ायरिंग करनी शुरू कर दी, जिसमें हज़ारों मासूमों की जान चली गई.
उधम सिंह इस हत्याकांड से बचने में तो कामयाब हो गए, लेकिन उस दिन उन्होंने इसका बदला लेने की कसम खा ली थी.
जालियांवाला बाग हत्याकांड के बाद से ही उधम सिंह क्रांतिकारी गतिविधियों से जुड़ गए. इसी कड़ी में उन्होंने गदर पार्टी जॉइन की. बता दें, गदर उस समय का एक सक्रिय क्रांतिकारी संगठन था, जो अंग्रेज़ों के ख़िलाफ़ मोर्चा खोले हुए था. इसके अलावा, ये संगठन देश के युवाओं में देशप्रेम की भावना को जागृत कर रहा था.
अंग्रज़ों के ख़िलाफ़ लड़ाई करने के लिए पैसा जुटाने के लिए क्रांतिकारी उधम सिंह देश-विदेश जाकर पैसे जुटाने का काम करते थे. वह दो-एक बार जेल भी जा चुके थे. उधम अपने गिरफ़्तार होने के डर से यहां-वहां छिप रहे थे. इस दौरान, वह पंजाब से गायब होकर कश्मीर पहुंचे और वहीं उन्हें ख़बर मिली कि ‘डायर’ लदंन में है.
19 जुलाई की महत्त्वपूर्ण घटनाएं
-स्कॉटी स्वतंत्रता युद्ध के दौरान हैलिडन पहाड़ी का युद्ध 1333 में हुआ जिसमें अंग्रेजो ने स्कॉटों पर निर्णायक जीत दर्ज की.
-प्रशिया के बर्लिन में 1510 को 38 यहूदियों को जिंदा जला दिया गया.
-15 वर्षीय लेडी जेन ग्रे को 1553 में नौ दिनों के बाद इंग्लैंड की महारानी के रूप में अपदस्थ किया गया.
-किंग चार्ल्स के नेतृत्व में स्वीडन की सेना ने 1702 में चेक गणराज्य के क्रेकोव शहर पर कब्जा किया.
-बंगाल के नवाब मीर कासिम को कटवा की लड़ाई में 1763 को ब्रिटिश सेना ने बुरी तरह पराजित किया.
-चार्ल्स डार्विन 1836 में मैक्सिको के असेनसियान शहर पहुंचे.
-पहला महिला अधिकार सम्मेलन 1848में न्यूयॉर्क के सिनिका फॉल्स में आयोजित किया गया .
-ताइपिंग विद्रोह में 1864 को नानकिंग के तीसरे युद्ध में चीनी साम्राज्य ने अंततः ताइपींग को पराजित कर दिया.
-फ्रांस ने 1870 में प्रशिया के खिलाफ युद्ध की घोषणा की.
-एडोल्फ हिटलर ने 1940 में ग्रेट ब्रिटेन को आत्मर्समपण करने का आदेश दिया.
-भारत सरकार ने देश के 14 बड़े बैंकों का राष्ट्रीयकरण करने का निर्णय 1969 में लिया.
-अपोलो द्वितीय के अंतरिक्ष यात्री नील आर्म स्ट्राँग और एडविन एल्ड्रीन ने 1969 में यान से बाहर निकलकर चंद्रमा की कक्षा में चहलकदमी की.
-भारतीय क्रांतिकारी ऊधम सिंह की अस्थियां 1974 में लंदन से नयी Delhi लायी गयी.
-नेपाल में 1976 को सागरमाथा पार्क बनाया गया.
-निकारगुआ देश की जनता की क्रान्ति 1979 में सफल हुई.
-रूस एवं उससे अलग हुए गणराज्य चेचेन्या के बीच रूसी महासंघ में ही ‘समप्रभु गणराज्य’ का दर्जा देने संबंधी समझौता 1995 में सम्पन्न.
-सन 2001 से ताश, लिपस्टिक, नाखून पालिश और शतरंज सहित 30 वस्तुओं का आयात अफ़ग़ानिस्तान में प्रतिबंधित.
-रूस के अंतरिक्ष यात्री यूरी माले थान्को 2003 वको अंतरिक्ष में शादी रचाने वाले पहले व्यक्ति बने.
-तीन बार टाले जाने के बाद दुनिया के सबसे बड़े दूर संचार उपग्रह को लेकर 2004 में एरियन-5 फ़्रेंच गुयाना के कोरू प्रक्षेपण केन्द्र से रवाना.
-प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने 2005 में अमेरिकी कांग्रेस को सम्बोधित किया.
-इराक में एक अमेरिकी सैनिक मैरिन कॉरपोरल ट्रेंट थॉमस को 2007 में 11 विकलांग बच्चों की हत्या का दोषी करार दिया गया.
19 जुलाई को जन्मे व्यक्ति
-रिवॉल्‍वर का आविष्‍कार करने वाले सैमुअल कोल्‍ट का जन्‍म 1814 हुआ था.
-स्वतंत्रता संग्राम के अग्रदूत मंगल पांडे का जन्‍म 1827 हुआ था.
-जर्मनी के नोबल पुरस्कार प्राप्त विख्यात रसायनशास्त्री हरमैन एश्टेडिंगर का जन्म 1881 में हुआ.
-रूस के प्रसिद्ध शायर विलादीमीर मायाकोस्फ़ी का जन्म 1893 में हुआ.
-बंगाल के मुस्लिम नेता ख़्वाजा नजीमुद्दीन का जन्‍म 19 जुलाई 1894 हुआ था.
-भारतीय खगोल भौतिकविद जयंत नार्लीकर का जन्म 1938 में हुआ.
-भारत के भूतपूर्व 39वें मुख्य न्यायाधीश अल्तमस कबीर का जन्‍म 1948 हुआ था.
-मलयालम भाषा की प्रसिद्ध कवियित्री नालापत बालमणि अम्मा का जन्‍म 19 जुलाई 1909 हुआ था.
-मलेशिया के राजा तुअंकु जाफडर इब्नी अलमर्हम तुअंकु अब्दुल रहमान का जन्म 1922 में हुआ.
-द्वितीय, तीसरी, चौथी, पाँचवीं, आठवीं और नौवीं लोकसभा के सदस्य दिनेश सिंह का जन्‍म 1925 में हुआ था.
-भारतीय भौतिकी वैज्ञानिक जयंत विष्णु नार्लीकर का जन्‍म 1938 हुआ था.
19 जुलाई को हुए निधन
-दक्षिण कोरिया के पहले राष्ट्रपति सिंगमन री का निधन 1965 में निर्वासन के दौरान हो गया.