सिटी न्यूज़

Etah News: 20 वर्ष से नहीं बना लालपुर खकरई मार्ग, गडढों में बदल गई है सड़क

Etah News: 20 वर्ष से नहीं बना लालपुर खकरई मार्ग, गडढों में बदल गई है सड़क
UP City News | Aug 28, 2021 07:32 PM IST

एटा. थाना मारहरा की ग्राम पंचायत खकरई को जोडने बाला रतिभानपुर मार्ग से लालपुर खकरई मार्ग का रास्ता लगभग 700 मीटर लगभग 20 बर्ष से टूटकर गडढों में तब्दील हो चुका है. लेकिन काफी शिकायतों के बाद भी इस रास्ते को सही कराए जाने के लिए जिले के अधिकारियों द्वारा कोई कार्यबाही नहीं की जा रही है. ग्रामीणों ने डीएम अंकित अग्रवाल से इस सात सौ मीटर रोड को सही कराए जाने की मांग की है.

विकास खण्ड मारहरा एवं जिले की अंतिम सीमा हाथरस जिले की सीमा से सटा हुआ गांव लालपुर देहामाफी अधिकारियों की उपेक्षा का शिकार बनकर रह गया है। इस गांव के लिए रतिभानपुर मार्ग से गांव तक की दूरी 700 मीटर पर आज से लगभग 20 बर्ष पूर्व पीडब्लूडी द्वारा डाबर रोड बनबाया गया था. तब से लेकर अब तक ना तो इस मार्ग को प्रशासन द्वारा गडढा मुक्त कराया गया और ना ही दुबारा बनबाया गया.

ऐसा नहीं है कि इस मार्ग को सही कराए जाने के लिए ग्रामीणों के स्तर से कोई शिकायत नहीं की गई हो बल्कि कई बार पीडब्लूडी, मण्डी समिति, जिला पंचायत, आरईएस, सांसद, विधायक आदि विभागों से जब शिकायत की गई तो सभी ने यह कहकर पल्ला झाड लिया कि यह मार्ग उनके विभाग से नहीं बनबाया गया है. ग्रामीणों ने डीएम अंकित अग्रवाल से इस 700 मीटर रोड को सही कराए जाने की मांग की है. मांग करने बालों में अशर्फीलाल, भगवान सिंह, होरीलाल, महीपाल सिंह, राजबीर सिंह, तेजसिंह, रामस्वरूप, विपन कुमार, अतिबीर सिंह, सोमबीर सिंह, रामप्रकाश, चरन सिंह आदि प्रमुख हैं.

लालपुर का सात सौ मीटर रोड किसी दूसरे प्रदेश ने बनबाया

मारहरा। गांव लालपुर देहामाफी के इस सात सौ मीटर रोड को , पीडब्लूडी, मण्डी समिति, जिला पंचायत, सांसद, विधायक निधि आदि सभी विभागों के विभागाध्यक्षों द्वारा लिखित रूप में मुख्यमंत्री पोर्टल पर निस्तारण में आख्या प्रस्तुत की गई हैं कि यह रोड उनके विभाग से नहीं बनबाया गया है तो यह प्रश्न खडा होता है कि फिर इस वीरोड को किसी दूसरे प्रदेश के विभाग से बनबाया गया था. जिससे किसी विभाग के पास इसका लेखा-जोखा नहीं है. वही डीएम एटा अंकित अग्रवाल का कहना है कि ऐसा नहीं हो सकता कि यह रोड जिले के किसी विभाग से नहीं बना हो मंगलवार को अभी विभागों के विभागाध्यक्षों से बात की जायेगी और समस्या का समाधान किया जाएगा.