सिटी न्यूज़

रवीना टंडन ने बताया क‍ि वो क‍िस के साथ काम करना करेंगी पसंद

रवीना टंडन ने बताया क‍ि वो क‍िस के साथ काम करना करेंगी पसंद
UP City News | May 03, 2021 02:41 PM IST

मुंबई. रवीना टंडन (Raveena Tandan) 90 के दशक में उम्दा अभिनेत्रियों में थीं और रवीना आज भी इंडस्ट्री की जानी मानी सेलिब्रिटी में से एक हैं. रवीना ने हाल ही में एक इंटरव्यू दौरान फिल्मों में अपने शानदार भूमिका निभाने के बारे में कुछ राज खोले, फिल्मों के साथ-साथ रवीना आज के मीडिया और ट्रोलर्स बारे में भी बात की.

अगर मैं आज के समय में डेब्यू करती, तो मुझे लगता है कि मैं संजय लीला भंसाली की फिल्मों का हिस्सा बनना चाहती. हमारे पास आज के टाइम पर हाईवे जैसी फिल्में भी हैं, जो मुझे पूरी तरह से उड़ान देती हैं. अब भी कई नए और युवा निर्देशक हैं जो अभिनेत्रियों के साथ बेहतरीन फिल्में बना रहे हैं. मुझे खुशी है कि मैं अभी भी इंडस्ट्री का हिस्सा हूं और मुझे बदलाव देखने को मिलता है. मुझे आप KGF: Chapter 2 ’में देख सकते हैं और मुझे खुशी है कि मैं अभी भी इस तरह की शानदार भूमिकाएं करने के लिए तैयार हूं.

मुझे सोशल मीडिया पर लोगो साथ इंटरैक्ट करना पसंद है. मुझे कभी कभी यह नकारात्मकताओं और ट्रोल्स और बाद लगता है की सोशल मीडिया को बैन कर देना चाहिए. लेकिन हम हमेशा एक्टर और एक्ट्रेस होने के नाते यह समझ सकते हैं दुनिया में दो तरह के लोग हैं नेगेटिव और पॉजिटिव. तो हम क्यों न नेगेटिव लोगों  की तरफ ध्‍यान न देकर पॉजिटिव कमेंट को ध्यान में रखें. उन्‍होंने कहा मेरा मानना है की और हम उन नेगेटिव लोगों की वजह से और काम करने इंस्पिरेशन मिलती है.

मुझे नहीं लगता कि थ्रेटर्स में फिल्में रिलीज करना कभी खत्म होगा. थ्रेटर्स बंद कर दिया तो लोग अपने एंटरटेन करने कहां जाएंगे . थिएटर इंडस्ट्री के लिए एक दारोहर की तरह है. यह हमारी कमाई और पूंजी है. कैसे इसको बंद कर सकते हैं. मुझे लगता है कि ये एक ऐसी जगह है जहां लोग वापस आने के लिए उत्सुक रहते हैं.

पहली बार जब मैंने खुद को स्क्रीन पर देखा तो एक विज्ञापन में था. बहुत समय पहले की बात है जब मैं सिर्फ 16 साल की थी. वह एक शैम्पू का विज्ञापन था. मैंने टेलीविजन पर विज्ञापन को देखा था सिल्वर स्क्रीन पर नहीं देखा था. यह एक अजीब सा एहसास था. मैं हमेशा खुद को लेकर बेहद आलोचनात्मक देखती  रही हूं. जब भी मैं खुद को देखती हूं, मैं केवल अपनी आलोचना करती हूं. मैं अपने में और क्या बदलाव कर सकती हूँ.