सिटी न्यूज़

ऐसे कैसे : इस जिले को कोरोना के टीके मिले 278640, और लग गए 280160

ऐसे कैसे : इस जिले को कोरोना के टीके मिले 278640, और लग गए 280160
UP City News | May 04, 2021 02:47 PM IST

बरेली. कोरोना संक्रमण बढ़ने के साथ ही लोगों मे वैक्सीनेशन के प्रति उत्साह बढ़ा है. पूरे देश में लोग बड़ी संख्या में लोग वैक्सीननेशन कराने के लिए स्वास्थ्य केंद्रों पर उमड़ रहे हैं. हालांकि बरेली में वैक्सीनेशन को लेकर एक चौंकाने वाला तथ्य सामने आया है. यहां वैक्सीन की डोज के अनुरूप अधिक संख्या में लोगों का टीकाकरण हो गया. हालांकि जिले में मिली आपूर्ति में से आठ प्रतिशत वैक्सीन वेस्टेज में चली गई और अब वैक्सीन वेस्टेज माइनस में चला गया. स्वास्थ्य विभाग के अधिकारी इस खुलासे के बाद चुप्पी साधे बैठे हैं.

जिले में 16 जनवरी से कोरोना वैक्सीनेशन की शुरुआत हुई. शुरुआत में लोगों में कोरोना वैक्सीन के प्रति उत्साह नहीं होने के कारण कम लोग केंद्रों पर पहुंचे और जिले को पर्याप्त मात्रा में वैक्सीन की आपूर्ति भी हुई. हालांकि इस दौरान कोरोना वैक्सीन की वेस्टेज भी हुई. फरवरी माह तक जिले में कोरोना वैक्सीन की वेस्टेज 10 प्रतिशत तक हो गई. लोगों में उत्साह बढ़ने पर वैक्सीन की किल्लत होने लगी और सरकार ने जिले के स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों को वेस्टेज को कम करने के निर्देश दिए.

सरकार का आदेश आने के बाद जिले में जादू हुआ. जिले में कोरोना वैक्सीन का वेस्टेज माइनस में पहुंच गया. इस तथ्य को ऐसे समझा जा सकता है ​कि वैक्सीन की आपूर्ति के सापेक्ष अधिक लोगों का टीकाकरण किया गया. स्वास्थ्य विभाग के आंकड़े भी इसकी पुष्टि करते हैं. आंकड़ों के अनुसार, 29 अप्रैल तक वैक्सीन की 278640 डोज आईं और 280160 लोगों का टीकाकरण हुआ.

आठ फीसदी थी वैक्सीन वेस्टेज
शुरुआती दौर में जिले को मिलने वाली कोरोना वैक्सीन की वेस्टेज आठ प्रतिशत तक थी. इसका सीधा मतलब है कि जिले में मिलने वाली आपूर्ति में से आठ प्रतिशत वैक्सीन की डोज खराब हो रही थी. हालांकि अब वैक्सीन वेस्टेज माइनस में हो हेा गया. यह आंकड़ा सामने आने के बाद स्वास्थ्य विभाग के जिम्मेदार चुप्पी साधे बैठे हैं. हालांकि जिले के प्रतिरक्षण अधिकारी डॉ आरएन सिंह इसे स्टाफ की सतर्कता मानते हैं.